चोरों ने चुराए 10 मोबाइल टॉयलेट, पुलिस प्रशासन भी हैरान

0
650
मोबाइल टॉयलेट

आज तक आपने चोरों को रुपये पैसे ही चुराते देखा होगा पर, हालही में चोरों ने 10 मोबाइल टॉयलेट चुरा कर पुलिस तथा जनता दोनों को हैरान कर दिया है। चोर किसी न किसी ऐसी चीज को ही सबसे पहले चुराते हैं। जिसको छुपाना आसान होता है। जैसे की गहने या पैसे जिनको गलाया जा सकता है। लेकिन इस बार चोरों ने कुछ ऐसी चीज चुराई जिसको ठिकाने लगाना ही बहुत मुश्किल है। चोरी के बाद पुलिस द्वारा चोरी हुई चीज को ढुंढने की कोशिश तो की ही जाती हैं ऐसे में चोरों द्वारा चुराई गई इस वस्तु को छुपा कर ज्यादा समय तक छिपे रहना काफी मुश्किल होगा।

मोबाइल टॉयलेटImage source:

आपको बता दें कि इस घटना में चोरों ने किसी छोटी मोटी चीज पर हाथ साफ नहीं किया बल्कि काफी बड़ी चीज चुराई थी। यह वस्तु थी मोबाइल टॉयलेट। चोरों ने 10 मोबाइल टॉयलेट को रात में चुराया। अचरज की बात यह है कि इतनी बड़ी चीज को चुराते हुए भी किसी ने चोरों को नहीं देखा। हाल ही में घटी यह घटना पुणे के हिन्जवादी क्षेत्र से सामने आई है। असल में यहां सरकार ने स्वच्छ भारत अभियान मिशन के तहत मोबाइल टॉयलेट लगवाए थे।

यह टॉयलेट इस क्षेत्र को शौच मुक्त बनाने के उद्देश्य से बनवाये गए थे। इस चोरी के बाद बीते सोमवार को अधिकारियों ने FIR दर्ज कराई है। यहां के स्वास्थ्य विभाग के कार्यकर्ता मनोज लोन्कर ने बताया कि “6 माह पहले ये टॉयलेट यहां लगवाए थे। ये सभी मोबाइल टॉयलेट थे इसलिए एक स्थान से दूसरे स्थान पर इनको ले जाने में अधिक परेशानी नही होती थी। बीती 11 तारीख को इन सभी टॉयलेट को चोरों ने चुरा लिया और अचरज की बात यह है कि इस चोरी को किसी ने देखा भी नहीं।”

मोबाइल टॉयलेटImage source:

इसी क्षेत्र के सीनियर इंस्पेक्टर अरुण वायकर का कहना है कि “लोगों ने टॉयलेट चोरी के बारे में जानकारी दी थी। टॉयलेट को झोपड़पट्टी के इलाके में रखा गया था। वर्तमान में हम सीसीटीवी फुटेज के आधार पर चोरों को पकड़ने में जुटे हैं।” यहां के नितीन कालजे का कहना है कि “इस खबर के बाद हम खुद हैरान हैं। पुलिस को जल्दी ही चोरों को पकड़ लेना चाहिए। यह जनता की हानि है और इससे आम लोगों को समस्या का सामना करना पड़ रहा है।” इस प्रकार से इस अनोखी चोरी को अनोखे स्टाइल में चोरों ने अंजाम दिया। अब पुलिस इस मामले की छानबीन में जुटी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here