_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/05/","Post":"http://wahgazab.com/special-tips-of-beetle-nut-to-resolve-your-problems/","Page":"http://wahgazab.com/addd/","Attachment":"http://wahgazab.com/water-growing-in-this-tree-in-place-of-fruits-and-flowers/water-tree1/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/28118/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=154","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

नवजोत सिंह सिद्धू की हालत नाजुक

थोड़ी सी लापरवाही बनी जिंदगी पर भारी…यही हुआ हमारे पूर्व भारतीय क्रिकेटर और भाजपा के पूर्व सांसद नवजोत सिंह सिद्धू के साथ। जिन्हें मंगलवार की शाम को गंभीर हालत में दिल्ली के अपोलो अस्पताल में भर्ती किया गया है। जहां अब उनकी हालत ठीक बताई जा रही है। बताया जाता है कि कुछ समय पहले नवजोत सिंह सिद्धू मानसरोवर की यात्रा करने गये थे। जहां पर उन्हें घुटने पर चोट लग गयी थी। जिस पर लापरवाही बरतने के कारण पैरो की नाड़ी में खून जमा होने लगा। इस हालत को डीप वेन थ्रोम्बोसिस(डीवीटी) कहा जाता है। ये ज्यादातर पैर में ही होती है। इसके होने से पैरों में सूजन और दर्द काफी होता है। इसका सही समय पर सही इलाज ना होने से ये काफी खतरनाक भी हो सकती है। जिस समय नवजोत सिंह सिद्धू को अस्पताल लाया गया था उस समय उनकी हालत काफी नाजुक थी। जिससे समय रहते डा. ने उनका इलाज शुरू कर दिया। अब उनकी हालत में काफी सुधार देखने को मिल रहा है।

SidhuImage Source: http://www.ohmyindia.com/

टीम इडिंया की तरफ से 51 टेस्ट और 136 वनडे खेलने वाले सिद्धू ने अपने एक ट्विट में लिखा है। कि मै अभी “बीमार हूं लेकिन नॉटआउट हूं”। चौके छक्कों की भरमार करने वाले सिद्धू ने आखिर अपनी जिंदगी की बाजी को जीत ही लिया।

 

Most Popular

To Top