एक्सपायर डेबिट और क्रेडिट कार्ड से भी निकल सकते हैं पैसे

शहरी इलाकों में लोग ज्यादा कैश अपने पास रखने से बचते हैं, क्योंकि कैश रखने से लूट होने की वारदातों खतरा रहता है। इस तरह की वारदातों से लोगों को बचाने के लिए डेबिट और क्रेडिट कार्ड का चलन शुरू किया गया, लेकिन आजकल इनके द्वारा भी कई जालसाजी के मामले सामने आ रहे हैं। यही नहीं एक्सपायर डेबिट और क्रेडिट कार्ड्स तक से जालसाजी कर ली जा रही है। मुंबई पुलिस की ओर से डेबिट और क्रेडिट कार्ड का एक ऐसा जालसाज पकड़ा गया है जो लोगों के एक्सपायर हो चुके कार्डों की मदद से उनके खाते से पैसे निकाल लेता था। इस व्यक्ति ने ऐसे कई मामलों को अंजाम दिया है।

अगर आप भी शॉपिंग करने के लिए या किसी अन्य वस्तुओं को खरीदने के लिए डेबिट और क्रेडिट कार्ड का प्रयोग करते हैं तो आपको अब सावधान होने की आवश्यकता है। आपकी सुविधा के लिए बनाए गए यह डेबिट और क्रेडिट कार्ड आपकी मेहनत की कमाई को पल भर में ही किसी और के एकाउंट में ट्रांसफर कर सकते हैं। इसके अलावा यह न सोचें कि एक्सपायर हो जाने पर कार्ड बेकार हो गया है। मुंबई की दादर पुलिस के द्वारा एक ऐसे जालसाज को पकड़ा गया है जो एक्सपायर और खराब हो चुके डेबिट और क्रेडिट कार्डों के मदद से लोगों के खातों से पैसे लूट लेता था।

जानकारी के मुताबिक दादर पुलिस ने बायकुला क्षेत्र से नासिर अंसारी नाम के व्यक्ति को पकड़ा है। यह व्यक्ति चोरों और कबाड़ा बीनने वालों से पुराने कार्ड खरीद लेता था। जिसके बाद इन कार्डों को वास्तविक खातों के साथ लोड कर उनसे लाखों रुपए निकालने की वारदात को अंजाम देता था। नासिर अंसारी की जानकारी पुलिस को पहले से ही थी। दिसंबर की एक वारदात के बाद से ही पुलिस को इसकी तलाश थी। बीते दिनों जब नासिर एक एटीएम पर पैसे निकालने के लिए पहुंचा तो वहां मौजूद सुरक्षाकर्मी ने उसे पहचान लिया। जिसकी मदद से वह पकड़ा गया।

Untitled-1Image Source: http://viratpost.com/

दरअसल नासिर अंसारी ने यह काम क्रेडिट कार्ड के एक मास्टरमाइंड से सपंर्क में आकर सीखा है। उस मास्टरमाइंड ने नासिर को एक लैपटॉप और पुराने कार्डों से डाटा रीड करने की मशीन दी थी। इसके अलावा उसे यह भी सिखाया कि एक्सपायर कार्ड से कैसे पैसे निकाले जाते हैं।

पुलिस के जांच अधिकारी अब इस मास्टरमाइंड क्ति की तलाश कर रहे हैं। नासिर पिछले चार महीनों में करीब 25 बार विभिन्न लोगों के खातों से पैसे निकाल चुका है। वह हर बार में एक लाख रुपए निकालता था। नासिर इन वारदातों को केवल दस प्रतिशत की कमीशन के लालच में करता था।

To Top