_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/12/","Post":"http://wahgazab.com/one-of-the-top-5-south-indian-movie-that-earns-a-lot-of-fortune/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/?attachment_id=43757","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

राहुल गांधी ने खुद को बताया सबसे बड़ा हिंदुत्ववादी, बाजार से “डाबर का तेल” खरीदते देखे गए

funny pic

वैसे तो हर नेता की अपनी अलग मानसिकता होती हैं जो उसकी पब्लिक में एक अलग पहचान बनाती हैं, पर अपने राहुल गांधी जी की बात ही कुछ और हैं। वर्तमान में राहुल जी गुजरात चुनाव को ध्यान में रख कर वहां की ख़ाक छानते नजर आ रहें हैं। इस बार वे चुनावी तैयारियों में बहुत रम चुके हैं और गुजरात विजय के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रहें हैं।

यह आज की बात हैं पर यदि राहुल जी के जीवन में फ़्लैश बैक में जाया जाए तो उनके अनुसार “मंदिर में जाने वाले लड़कियां छेड़ते हैं, राम काल्पनिक व्यक्ति हैं या हिंदू आतंकवादी” जैसे शब्द सहज भाव से कहते मिल जायेंगे। खैर गुजरात चुनाव आते ही उन्हें पता नहीं क्या हो गया हैं कि राहुल पूरे चेंज हो चुके हैं। वे अब लगातार मंदिर जा रहें हैं और पूजा उपासना कर रहें हैं। मंदिर जानें के इसी क्रम में जब वे गुजरात के सोमनाथ मंदिर में गए तो वहां से एक अलग ही विवाद साथ ले आए।

Rahul Gandhi at a press conferenceimage source 

 

दरअसल बात यह थी कि मंदिर के जिस रजिस्टर में राहुल जी के साइन थे वह गैर हिन्दुओं वाला रजिस्टर था और राहुल जी का नाम हिंदू लोगों के साथ न होकर गैर हिन्दू लोगों के साथ था। बस यहीं हो गया लफड़ा। मीडिया राहुल जी का असल धर्म ढूंढने लगी, हालांकि इस बात पर कांग्रेस की धर्म ध्वजाधारक कई प्रवक्ताओं ने अलग अलग दलीलें दी पर वे पत्रकारों को संतुष्ट नहीं कर सकें। अब उन बेचारों को भी क्या पता था कि राहुल जी ऐसा भी कुछ कर सकते हैं। खैर राहुल गांधी ने ही एक ऐसा काम किया जिससे उनके धर्म के बारे में पूछने वाले सभी लोगों का मुंह बंद हो गया।

rahul-gandhi-signature-somnath-temple-650-1_650x400_71511957574 middle picimage source 

असल में यह हुआ कि आज सुबह तड़के ही राहुल गांधी बाजार की एक दूकान से “डाबर का तेल” खरीदते पाए गए। बात का पता लगते ही सभी पत्रकार वहां आ पहुंचे और उन्होंने राहुल जी से डाबर का तेल खरीदने के रहस्य के बारे में पूछा। तब राहुल जी ने अपनी अनंत करुणा दिखाते हुए उनको डाबर के तेल के पीछे का रहस्य समझाते हुए कहा “मित्रों मैं कई दिन से यूट्यूब और फेसबुक पर एक नारा लगातार ट्रेंड करते हुए देख रहा था, यह नारा था।

“लगा लो तेल डाबर का, मिटा दो नाम बाबर का”

आगे राहुल जी ने बिना रुके कहा “कई जगह पर यह भी लिखा था कि इस गाने को हिंदू लोग ही सुने। फेसबुक पर भी इसी प्रकार से यही लिखा गया था। बस मुझे समझ आ गया कि यदि मैं डाबर का तेल लगा लेता हूं तो मेरे हिंदू होने का यह सबसे बड़ा सबूत होगा।”

112828-randeep-surjewala 4thimage source 

इतना होने के बाद रणदीप सुरजेवाला तुरंत राहुल जी के बगल में आकर खड़े हो गए और पत्रकारों से कहा कि “मैंने आपको पहले भी कहा था कि राहुल जी जनेऊधारी हिंदू हैं। देखिये हमारी पार्टी में बीजेपी से भी ज्यादा हिंदू हैं। बीजेपी ने आप लोगों को राम और राम मंदिर के नाम पर सिर्फ ठगा हैं। सही बात यह हैं कि जल्दी ही कांग्रेस पार्टी अयोध्या में “राम मंदिर” बनवाएगी।” इस बात पर राहुल जी भी मंद मुस्कान बिखेरते हुए हामी भरते दिखलाई पड़े।

विशेष नोट- इस तरह के आलेख से हमारा उद्देश्य केवल आपका मनोरंजन करना हैं। इसमें मौजूद नाम, संस्था और राजनीतिक पार्टियों की छवि को धूमिल करना हमारा उद्देश्य नहीं हैं। साथ ही इसमें बताया गया घटनाक्रम मात्र काल्पनिक हैं। अगर इससे कोई आहत होता हैं तो हमें बेहद खेद हैं।

Most Popular

To Top