इंट्रोवर्ट बच्चों की गहराईयों को पहचानें

बच्चे बड़े ही नाजुक होते है बचपन के समय में उन्हें जिस तरह से ढाला जाये, वे उसी के अनुसार ढल जाते हैं। पर अक्सर आपने देखा होगा कि हर बच्चे एक ही स्वभाव के नहीं होते हैं। सभी के स्वभाव में अंतर होता है। कुछ चंचल होते हैं तो कुछ हठीले, कुछ शांत स्वभाव के होते हैं तो कुछ बच्चे छोटी उम्र से ही खुद में रहना पसंद करते हैं।

Introvert Children2Image Source: http://blog.appystore.in/

वे अपने स्वभाव के अनुरूप ही अकेले रहना पसंद करते हैं। अकेले बैठ कर ड्रांइग करना, गाने सुनना या कुछ पढ़ते रहना। इनकी ये आदतें घर के लोगों को परेशान कर देती हैं। मां बाप को इस तरह के लक्षणों से परेशानी होने लगती है। दूसरे लोगों के साथ न घुलना-मिलने के कारण वे टेंशन में आ जाते हैं। लेकिन जरूरी नहीं ये बच्चे पूरी जिंदगी इंट्रोवर्ट ही रहें। बढ़ती उम्र के साथ बच्चे एक्सट्रोवर्ट यानी दूसरों के साथ बातचीत करने लगते हैं। अगर आपका बच्चा दूसरों से बातचीत करने की बजाय खुद में रहना पसंद करता है तो परेशान होने की आवश्यकता नहीं है। कुछ इन बातों पर ध्यान दें-

बच्चे के आत्मविश्वास को खोने ना दें-

Introvert ChildrenImage Source: https://cdn.psychologytoday.com

अगर आपके बच्चे का स्वभाव और बच्चों से अलग है तो इसके लिए आपको ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है ऐसे समय में आप अपने बच्चे का विशेष ध्यान रखें। उसे डांटने की अपेक्षा उसे आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करें और बतायें कि वो कितना अच्छा है। इस तरह से आपका बच्चा अच्छा महसूस करेगा। और वो अपनी ताकत को पहचानेगा। वो समझेगा कि उसे किसी बच्चे को कॉपी करने या उस जैसा बनने की एक्टिंग करने की जरूरत नहीं है।

प्यार के साथ बच्चे का मनोबल बढ़ाएं

Playing with childImage Source: http://legacy.nerdywithchildren.com/

जो बच्चे दूसरों से अलग रहना पसंद करते हैं, ऐसे बच्चों को डाटें नहीं। उनके मन की गहराइयों को पहचानने की कोशिश करें उसकी पसंद क्या है। वो करना क्या चाहता है। उसके अनुरूप ही उससे बाते करें। उसके साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताएं। बच्चों से लगातार बात करते समय उन्हें बताइए कि दूसरों से बातचीत करना, उनके साथ मिलना-जुलना समाज में रहने के लिए बहुत जरूरी है। ऐसे बच्चों को कोई भी काम दें। कम से कम दें। एक साथ बहुत सारे कार्य करने को मत कहिए। उन्हें हर हफ्ते के लिए एक प्रोजेक्ट या असाइनमेंट दें, जिनसे बच्चे का सोशल कॉन्फिडेंस बढ़ने लगे। इसमें बर्थडे पार्टी का हिस्सा बनना, स्कूल असेंबली में बोलना या फैमिली फंक्शन में परफॉर्म करना शामिल होगा।

हमेशा खुशियां बाटें

happy peopleImage Source: http://i.ytimg.com/

ये बात सही है कि एक्सट्रोवर्ट लोगों को ज्यादा ही पसंद किया जाता है, पर क्या आप जानते है कि इंट्रोवर्ट लोग ग्रेट थींकर होते हैं। ऐसे लोग हमेशा ही एक कोने में शांत बैठकर खुद के भीतर झांकते रहते हैं। वे दुनिया को एक्सट्रोवर्ट लोगों की अपेक्षा बेहतर तरीके से समझते हैं। इसलिए बच्चों का नेचर जैसी भी हो, उनके साथ सेलिब्रेट करिए। इंट्रोवर्ट बच्चे भी इतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज कराने की क्षमता रखते हैं। जिसे नाकारा नहीं जा सकता है। इनकी यही सबसे बड़ी विशेषता रही है।

To Top