_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/12/","Post":"http://wahgazab.com/know-about-the-amazing-bike-made-with-a-budget-of-13-thousand-and-runs-at-a-speed-of-650kmhr/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/know-about-the-amazing-bike-made-with-a-budget-of-13-thousand-and-runs-at-a-speed-of-650kmhr/know-about-the-amazing-bike-made-with-a-budget-of-13-thousand-and-runs-at-a-speed-cover/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

इस मेट्रो स्टेशन पर रखी रहती हैं मानव लाशें, जानें से डरते हैं लोग

मेट्रो

आपने मेट्रो में यात्रा करते समय मेट्रो स्टेशन को भी देखा ही होगा, पर क्या आप किसी ऐसे मेट्रो स्टेशन एक बारे में जानते हैं जहां मृत लोगों की लाशें रखी जाती हैं? यदि नहीं, तो आज हम आपको एक ऐसे ही मेट्रो स्टेशन के बारे में जानकारी दे रहें हैं, जहां मानव लाशें रखी जाती हैं। इस मेट्रो स्टेशन पर न सिर्फ आम लोग जाने से कतराते हैं, बल्कि इसमें कार्यरत कर्मचारी भी डरते हैं। आइए आपको विस्तार से बताते हैं इस मेट्रो स्टेशन के बारे में।

मेट्रोImage Source:

आपको सबसे पहले हम बता दें कि यह खबर है अमेरिका के न्यूयॉर्क सिटी की। यहां के मेट्रो स्टेशन में कार्यरत कर्मचारी वर्तमान में काफी परेशान हैं। इन लोगों का कहना है कि उनके लिए निर्मित किए गए रेस्टरूम तथा बाथरूम में मानव लाशें रखी जाती हैं। इन मेट्रो कर्मचारियों को कहना है कि जब भी किसी व्यक्ति की मौत मेट्रो स्टेशन पर होती है या कोई शख्स आत्महत्या करता है, तो उसकी लाश को उठा कर पास के किसी भी रूम में रख दिया जाता है, चाहें वह किसी कर्मचारी के भोजन करने का कमरा ही क्यों न हो। इस बात पर न्यूयॉर्क के मेट्रो अधिकारी अपनी दलील देते हुए कहते हैं कि घटना के बाद यातायात बाधित न हो, इसलिए ही ऐसा किया जाता है। यदि लाश मेट्रो ट्रेक पर या स्टेशन के अन्य किसी स्थान पर यूं ही पड़ी रहेगी तो यातायात बाधित होगा, साथ ही मेट्रो के पायलेट को भी ट्रेन चलाने में परेशानी का सामने करना पड़ेगा। आगे ये अधिकारी कहते हैं कि आत्महत्या करने के बाद शव की पहचान तथा मेडिकल अफसर से शव की प्रारंभिक जांच कराने में 2 से 3 घंटे का समय लग जाता है, ऐसे में शव को खुले में नहीं छोड़ा जा सकता है। दूसरी ओर मेट्रो कर्मचारियों की एक शिकायत यह भी है कि यदि उनके रूम से लाश को हटा भी लिया जाता है, तब भी उसके कमरों की सफाई सही से नहीं की जाती है। इस प्रकार से देखा जाएं तो कर्मचारी तथा अधिकारी दोनों ही अपने-अपने पक्षों को रख रहें हैं, पर इस समस्या का निदान जल्द ही किया जाना चाहिए।

Most Popular

To Top