_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/04/","Post":"http://wahgazab.com/why-does-india-media-want-to-spread-communalism-in-society/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/?attachment_id=47080","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/0cab49f4a984d87c1382d7dd16b7e109/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

सावधान WhatsApp का मैसेज आपको अरेस्ट भी करा सकता हैं, जानिये इस पूरी खबर को

WhatsApp

 

आज के समय में सभी WhatsApp का इस्तेमाल कर रहें हैं लेकिन WhatsApp पर आपके द्वारा भेजा गया सन्देश आपको गिरफ्तार भी करा सकता हैं। आज से 5 वर्ष पहले की बात करें तो बाल ठाकरे की मौत के समय 2 लड़कियों की गिरफ्तारी की बात तो आपको याद ही होगी। असल में उस समय बाल ठाकरे की मौत की वजह से मुंबई में बड़ा जाम लग गया था और उसी को लेकर एक लड़की ने फेसबुक पर स्टेटस डाल दिया था जोकि उसकी गिरफ्तारी की वजह बना।

दूसरी लड़की की गिरफ्तारी उस स्टेटस को लाइक करने की वजह से हुई थी। इस प्रकार फेसबुक पर स्टेटस डालने और उसको लाइक करने की वजह से 2 लड़कियों को गिरफ़्तार किया गया था, पर आज के समय में WhatsApp पर आपके द्वारा भेजा गया मैसेज या फॉरवर्ड किया गया मैसेज भी आपको गिरफ्तार करा सकता हैं।

केस 1 – कुछ समय पहले 18 वर्षीय जाकिर को पुलिस ने इसलिए उठा लिया था क्योंकि उसने फेसबुक पर लोगों से पूछा था कि गंगा नदी को ‘लिविंग एंटिटी’ यानि जीती जागती चीज आखिर क्यों कहा जाता हैं। 45 दिन तक पुलिस ने उसको रिमांड पर रखा और उसके बाद जब वह आया तो उसकी नौकरी जा चुकी थी।

WhatsAppImage Source:

केस 2 – हिंदी न्यूज़ चैनल के ‘So Sorry’ एनिमेशन को आपने देखा ही होगा। इसमें राजनीती को लेकर हल्का फुल्का मनोरंजन किया जाता हैं। ऐसे ही एक वीडियो के कारण मेरठ के एक पत्रकार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इस वीडियो में लोगों के स्थान पर गधों को दिखाया गया था और पीएम उनसे अच्छे दिनों के बारे में पूछते दिखाए गए थे।

यह हैं मामला –

WhatsAppImage Source:

वैसे तो सभी को अपने विचार रखने की स्वतंत्रता हैं पर बाकि देशों की तरह अपने देश में भी फ़्री स्पीच को कंडीशंस के साथ रखा जाता हैं। सामाजिक तथा धार्मिक मुद्दों पर नजर रखी जाती हैं तथा इनका हनन IT Act के खिलाफ माना जाता हैं। WhatsApp के जरिये भी कई लोग हार्मलेस मैसेज की वजह से जेल पहुंचे हैं। आज के समय में बोलने की आजादी को मापने का कोई पैमाना नहीं हैं इसलिए यदि आप कोई मैसेज लिखे या फॉरवर्ड करें तो सचेत रहें यही आपके लिए सही रहेगा।

To Top