पीएम मोदी ने जारी किया नया बयान, कहा- दिल्ली का स्मॉग विपक्ष की जलन से उठा धुआं हैं

-

 

वर्तमान में दिल्ली का हाल कैसा हैं वह आपको पता ही होगा। इस बारे में किसी से बात करना खुद को मुर्ख साबित करना हैं। यही कारण हैं कि हम लोग आपको दिल्ली में चल रही स्मॉग प्रॉब्लम के बारे में ज्ञान नहीं दे रहें हैं। अब आते हैं सीधे खबर पर, दरअसल बात दिल्ली के स्मॉग की नहीं हैं बल्कि इसे लेकर आये पीएम मोदी के नए बयान की हैं।

मोदी जी के हाल ही में आये इस बयान से विपक्षी दल कुछ इस कदर जल भून गए हैं कि सर्दी के समय भी उनके नेताओं के शरीर से गर्मी वाला पसीना चोता देखा जा रहा हैं। अब आप खुद ही समझ गए होंगे कि मोदी जी का बयान किस कदर भड़काऊ होगा। पीएम मोदी के इस बयान के कारण ही देश भर में गहमा गहमी का वातावरण पैदा हो चुका हैं और विपक्ष के छुटभैया नेता जी जगह जगह रैली करते और प्रैस कांफ्रेंस करते नजर आ रहें हैं।

pm modi accuses the opposition party for delhi smog issueimage source:

असल में बात यह थी कि एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान पत्रकार ने पीएम से दिल्ली के स्मॉग के बारे में पूछ लिया। इस सवाल के जवाब में पीएम ने इस समस्या को अति साधारण बताया और कहा कि “जब से देश में नोटबंदी की वर्षगांठ मनाई जा रही हैं तभी से दिल्ली में इस तरह का स्मॉग का होना इस बात को दर्शाता हैं कि यह वाकई में धुआं हैं। लेकिन यह धुंआ कोई आम धुंआ नहीं हैं बल्कि विपक्षी दलों की जलन का धुआं हैं।”

मोदी जी ने आगे बताते हुए कहा कि “देखिये देश में विकास का जन्म हुआ पर विपक्ष को इस बात का पता नहीं है क्योंकि विकास की छटी और नामकरण में हमने विपक्ष को बुलाया ही नहीं था, इसलिए उनको पता कैसे लगता।” अपनी लय में आगे बोलते हुए मोदी जी ने कहा कि “बात यह हैं कि जब से अपने देश में विकास पैदा हुआ हैं तब से बहुत देशों से उनके पास लगातार फोन आ रहें हैं ताकि वे भी हमसे विकास को पैदा करने के टिप्स ले।” आगे अपनी बात पर जोर देते हुए उन्होंने बोला “यह स्मॉग पीएम आवास पर उस समय सबसे ज्यादा देखा गया था जब मैंने करोड़ो रूपए वाला सूट पहना था।”

पीएम के इस बयान के चलते विपक्ष बहुत गर्म स्थिति में हैं। खैर प्रैस कांफ्रेंस ख़त्म होने से पहले पत्रकार ने मोदी जी से यह सवाल कर डाला “क्या आप इस बढ़ते प्रदुषण से चिंतित नहीं हैं।”, इसके जवाब में उन्होंने कहा कि पहली बात तो यह प्रदुषण हैं ही नहीं जैसा मैंने आपको अभी बताया हैं और यदि यह वाकई में प्रदुषण हैं तो हम लोग गड़करी जी से गुजारिश करेंगे कि वह कम पराठे खाएं।” बस इस छोटे से इंटरव्यू ने देश में धमाल मचाया हुआ हैं और इंटरव्यू लेने वाले पत्रकार की नौकरी खतरे में पड़ी हुई हैं।

विशेष नोट- इस तरह के आलेख से हमारा उद्देश्य केवल आपका मनोरंजन करना हैं। इसमें मौजूद नाम, संस्था और राजनीतिक पार्टियों की छवि को धूमिल करना हमारा उद्देश्य नहीं हैं। साथ ही इसमें बताया गया घटनाक्रम मात्र काल्पनिक हैं। अगर इससे कोई आहत होता हैं तो हमें बेहद खेद हैं।

shrikant vishnoihttp://wahgazab.com
किसी भी लेखक का संसार उसके विचार होते है, जिन्हे वो कागज़ पर कलम के माध्यम से प्रगट करता है। मुझे पढ़ना ही मुझे जानना है। श्री= [प्रेम,शांति, ऐश्वर्यता]

Share this article

Recent posts

देखो भाई अजब तमाशा, जापान ने बनाया ऐसा टॉयलेट जो बोले खुलेपन की भाषा

वैसे तो पारदर्शिता या जिसे आप ट्रांसपेरेंसी कहते हैं वो चाहिए तो संबंधों में थी उससे मन साफ रहता पर चलिए यहाँ शौचालय पारदर्शी...

आजादी की आखिरी रात यानी १५ अगस्त, १९४७ को घटनाक्रम ने क्या-क्या मोड़ लिए थे, आईये जानते हैं

इस वर्ष यानि 2020 का स्वतंत्रता दिवस गत वर्षों से भिन्न होगा | दुर्भाग्यवश कोरोना महामारी से हमारा देश और पूरा विश्व प्रभावित है...

मशहूर शायर राहत इंदौरी का दिल का दौरा पड़ने से हुआ निधन

कल शाम दिल का दौरा पड़ने से मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन हो गया | ज़िन्दगी के ७० बरस गुज़ार चुकने के बाद...

बाबा ज्योति गिरि महाराज की काली करतूत वीडियो में हुई दर्ज

बाबा राम रहीम और आसाराम बापू के बाद हरियाणा के मार्केट में एक और बाबा का नाम नाबालिगों के साथ कथित तौर पर बलात्कार...

डब्बू अंकल को टक्कर देने आ गए डॉक्टर अंकल, कमरिया ऐसी लचकाई कि लोग हो गए दीवाने

बहुत वक़्त नहीं हुआ जब आपने एक शादी समारोह में भोपाल के संजीव श्रीवास्तव (डब्बू अंकल) नाम के व्यक्ति को गोविंदा के गाने पर...

Popular categories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent comments