_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/06/","Post":"http://wahgazab.com/check-out-the-first-tv-commercial-of-dabbu-uncle-and-the-dance-he-did/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/this-infant-started-to-walk-just-after-birth-doctors-are-surprised/video-8/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/ea6a6e77ca639bd8e8c69deaa8f1ad28/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

मुंम्बई के इस व्यक्ति ने घर की छत बना दिया पूरा विमान

विमान

हमारे देश के युवाओं की काबलियत की बात करें तो वह किसी के अन्य देश के युवाओं से कम नही है। इसकी उदाहरण हमें आए दिन किसी न किसी नए तकनीकी आविष्कार के जरिए मिलती रहती है। मगर हाल ही में मुंबई के एक शख्स ने वो कारनामा कर दिखाया है जिसे करने वाला वह आजाद भारत का पहला शख्स बन गया है। इस व्यक्ति के इस काम की बात करें तो आपको बता दें कि इस व्यक्ति ने अपनी घर की छत एक प्लेन बना डाला है जोकि उड़ता भी है। इस व्यक्ति द्वारा बनाया गया यह विमान आजाद भारत का पहला विमान है जिसे भारत में बनाया गया है। इस शख्स के हुनर को सराहते हुए मुंबई के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़ण्वीस ने डीजीसीए का प्रमाण दिया है। इस शख्स का ख्वाब है कि वह देश के लिए विमान तैयार करने वाले विभाग में कार्य करे।

विमानImage source:

इस युवक के बारे में बताएं तो इसका नाम अमोल यादव है। अमोल के मुताबिक उसने अपने इस जहाज को 2011 में ही बना लिया था मगर सर्टिफिकेट पाने में उसे 7 साल का समय लग गया। अमोल पेश खुद एक पायलट है और उन्होंने अपने इस जहाज को बनाने के लिए इस पर करीब 5 करोड़ की राशि खर्च की है। जहाज बनाने में अमोल ने जो सफलता हासिल की है, उस पर न सिर्फ महाराष्ट्र बल्कि समुचा भारत गर्व कर रहा है।

विमानImage source:

सरकार की ओर इस जहाज को प्रधानमंत्री मोदी की ओर से शुरु की गई मेक इन इंडिया मुहिम में जगह दी गई है। विमान के निर्माण से जुड़ी एक अन्य कहानी भी है जोकि शिवकर तलपड़े से जुड़ी है। इसके मुताबिक साल 1895 में शिवकर ने एक विमान बनाया था जोकि हवा में उड़ा भी था, मगर पर्याप्त प्रमाण न होने के कारण इस कहानी की कभी पुष्टी नही हो पाई।

To Top