सर्दी में होने वाली एलर्जी से बचाएंगे ये आयुर्वेदिक नुस्खे

सर्दियां आते ही लोगों की तबियत खराब होना शुरू हो जाती है। अमूमन लोगों को सर्दियों में गले की खराश और अन्य स्वास्थ्य संबंधी एलर्जी की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। दरअसल स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता के कम होने के कारण होती हैं।
हमें आयुर्वेद के खजाने का चमत्कारी ग्रंथ कई वर्षों पहले ही मिल चुका है। इसमें ठंड के मौसम में होने वाली बीमारियों को भी ठीक करने के सटीक उपाय मौजूद हैं। सर्दियों में शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए हमें अपने पाचन तंत्र को दुरुस्त रखना होगा। इसके लिए हम आपको कुछ उपाय बताने जा रहे हैं।
1. गर्म पानी का सेवन करें– गर्म पानी सर्दियों के दौरान पेट की पाचन क्षमता को बढ़ाता है। साथ ही इससे कफ दोष भी शांत होता है। शरीर में कफ दोष होने के बाद ही सर्दी और जुखाम की समस्या उत्पन्न होती है।

boiling-waterimage source : http://www.yurtopic.com

2. हर्बल चाय का सेवन करें– इस मौसम में हर्बल चाय का सेवन करना बेहद ही फायदेमंद रहता है। सर्दियों में ब्लैक टी की जगह तुलसी और अदरक की हर्बल चाय का ही प्रयोग करना चाहिए।

herbal-teaimage source :http://www.kuulutaja.ee

3. भूख होने पर ही खाएं– सर्दियों में भूख होने पर ही खाना खाना चाहिए। कई बार लोग भूख न होने पर भी खाना खा लेते हैं। भूख न होने पर भी खाने से पाचन तंत्र खराब हो जाता है। इस दौरान भोजन धीर-धीरे पचता है।

DP - the anatomy of a bingeimage source :http://www.diseaseproof.com

4. सर्दी की समस्या होने पर भोजन कम करें– सर्दी की समस्या होने पर खाने में कमी कर देनी चाहिए। जिससे पाचन तंत्र की स्थिति ठीक हो जाए। ऐसा करने से शरीर में पित्त की बढ़ोत्तरी होगी और शरीर में गर्माहट बनी रहेगी।

wellness-story_647_092515053806image source : http://media2.intoday.in

5. मसालों का सही चुनाव करें– सर्दियों में मसालों का सही चुनाव करना चाहिए। कई मसाले ऐसे होते हैं जो शरीर में गर्मी प्रदान करते हैं। इसके लिए आपको अपने भोजन में एक ग्राम अदरक पाउडर, हल्दी, दालचीनी, इलायची, काली मिर्च और करी पत्ते को मिलाना चाहिए। इसको खाने से आप सर्दी और बुखार से बच जाएंगे।

5

 

 

 

 

 

 

 

 

 

image source : http://highparkspicyhouse.com

सर्दियों के मौसम में होने वाली समस्याओं से बचने के लिए धूप में निकालना भी बेहद जरूरी है, क्योंकि इस समय धूप में कम आने के कारण रोग प्रतिरोधक क्षमता थोड़ी कम हो जाती है। धूप ही वह बेहतर विकल्प है जो कई बीमारियों की मात्र एक दवा है।

To Top