मंगल ग्रह पर मिली पानी की पहली झील, वैज्ञानिकों में ख़ुशी की लहर

मंगल ग्रह पर जीवन की खोज कई वर्ष से चल रही है हालही में वहां पानी की एक झील मिली है। जिससे वहां जीवन के होने की संभावना नजर आ रही है। वैज्ञानिकों को आशा है की जल्दी ही पृथ्वीवासी मंगल ग्रह पर अपना आशियाना बना लेंगे। आपको बता दें की मंगल ग्रह पर वैज्ञानिकों ने एक बड़ी भूमिगत झील का पता लगाया है। माना जा रहा है की यह मंगल ग्रह पर अब तक का सबसे बड़ा पानी का स्त्रोत है। इस झील का पता लगने के बाद वैज्ञानिक मंगल ग्रह पर जीवन की संभावनाओं का होना मान रहे हैं। यह खबर अमेरिकी जर्नल साइंस में हालही में प्रकाशित की गई है।

मंगल ग्रहImage source:

खोजकर्ता वैज्ञानिकों का कहना है की मार्सियन नामक हिम खण्ड के नीचे एक बड़ी पानी की झील है। जिसकी चौड़ाई करीब 20 किमी है। यह अब तक सबसे बड़ा जल स्त्रोत है जो मंगल पर पाया गया है। आपको जानकारी दे दें की 2003 में यूरोपियन स्पेस एजेंसी के मार्स एक्सप्रेस ऑर्बिटर से रडार मार्सिस को मंगल पर भेजा गया था। रडार मार्सिस को मंगल पर पानी की खोज के लिए ही भेजा गया था और इसके सके कारण ही यह खोज हुई है। पहले जो शोध मंगल ग्रह पर पानी को लेकर हुए थे। उनमें पानी के संभावित चिंह ही मिल पाए थे परंतु मंगल पर अब मिली पानी की झील इस ग्रह पर पानी के होने का जीवंत प्रमाण है। ऑस्ट्रेलिया के प्रोफेसर एलन डफी ने इसको एक शानदार खोज बताया है और कहा है की इस खोज से जीवन के अनुकूल परिस्थितियों की संभावना साफ़ दिखाई पड़ती है। इस खोज से पहले अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने यह कहा था की 2012 में मंगल की धरती पर उतरे रोबोट क्यूरियोसिटी को वहां 3 अरब वर्ष पुराने कार्बनिक कण मिले हैं। यह बात इस और इशारा करती है की उस समय इस ग्रह पर जीवन रहा होगा। वैज्ञानिकों ने इस खोज को एक रोमांचक खोज बताया है। अब आगे और क्या कुछ मिल पाता है यह देखने वाली बात है।

To Top