_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/05/","Post":"http://wahgazab.com/a-child-born-from-the-womb-of-a-dead-woman-four-months-back/","Page":"http://wahgazab.com/addd/","Attachment":"http://wahgazab.com/a-child-born-from-the-womb-of-a-dead-woman-four-months-back/dead-mother-give-birth-to-child1/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/28118/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=154","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

पीएम की मदद से सोनी के हौसलों को मिली उड़ान

आपने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ऐसे बहुत से किस्से सुने होंगे जिनमें उन्होंने जरूरतमंद बच्चों की मदद की है। मसलन प्रधानमंत्री बनने के बाद उनका गुजरात का CM रहते हुए अपनी सैलरी गरीब बच्चों को देने का मामला हो या फिर अब तक मिले सारे पुरस्कारों, तोहफों को नीलाम करके गरीब बच्चों की शिक्षा के लिए देना। नरेंद्र मोदी की उत्सुकता सदैव गरीब बच्चों को शिक्षा की ओर बढ़ाने की रही है। शायद इसके पीछे वजह यह है कि हमारे प्रधानमंत्री ने भी कभी न कभी उस समय को अपने जीवन में करीब से अनुभव किया है। हम आपके सामने पीएम नरेंद्र मोदी का ऐसा ही एक और किस्सा रखने जा रहे हैं जब हाल ही में उन्होंने एक गरीब लड़की की शिक्षा के लिए आर्थिक मदद देने बड़ा कदम उठाया।

soniImage Source: http://i9.dainikbhaskar.com/

यह कहानी है भागलपुर (बिहार) की सोनी की। सोनी एक गरीब परिवार की लड़की है। गरीबी में जैसे तैसे सोनी ने इंटरमीडिएट की पढ़ाई पूरी की, पर तब उसको लगने लगा कि अब उसको भी परिवार चलाने में अपना योगदान देना पड़ेगा। इस अहसास के बाद सोनी के सारे सपने बिखर गए, पर उसने हिम्मत नहीं हारी। सोनी ने आर्थिक मदद के लिए पीएम नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी। कुछ दिनों के बाद पीएम का जवाब आया और सोनी को 50 हजार रुपए मिले।

क्या है वर्तमान स्थिति-
पीएम द्वारा मदद मिलने के साथ ही सोनी के सपने को फिर से पंख लग गए। अगर वर्तमान की बात करें तो अभी सोनी पटना में बीएससी (नर्सिंग) की पढ़ाई कर रही हैं। सोनी इस बात से काफी उत्साहित हैं कि पीएम ने उसकी बात सुनी और उसको आर्थिक मदद दी। सोनी का कहना है कि भविष्य में नर्स बनकर समाज सेवा के साथ परिवार का भरण-पोषण करेगी। पीएम की एक चिट्ठी ने मेरी जिंदगी बदल दी।

soni and family

घर चलाने के लिए छोड़नी पड़ी थी पढ़ाई-
मोक्षदा इंटर गर्ल्स हाईस्कूल के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी जगदीश दास की पोती सोनी आज से आठ माह पहले यह सोच भी नहीं सकी थी कि वह आगे की पढ़ाई पूरी कर सकेगी। उसके पिता अरुण कुमार पासवान बीमार हो गए। मां भी बीमार रहने लगी। घर पर चार बहन और दो भाई हैं। इन सबमें बड़ी सोनी के सामने परिवार चलाने का संकट आ गया। इसी के चलते सोनी ने पीएम को आर्थिक मदद के लिए पत्र लिखा था और उसका जबाब भी आया। साथ ही 50 हजार रुपए की आर्थिक मदद भी।

कुछ दिनों पहले की बात करें तो प्रधानमंत्री मोदी ने “बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ” अभियान की शुरूआत की थी। जिसमें कन्या भ्रूण हत्या पर रोक और लड़कियों की शिक्षा के लिए अपील की गई थी। इससे पहले भी मोदी ने लड़कियों के लिए सुकन्या समृद्धि योजना सहित कई शरूआत की है।

 

Most Popular

To Top