_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/04/","Post":"http://wahgazab.com/an-explosion-takes-place-in-the-private-parts-of-this-girl/","Page":"http://wahgazab.com/addd/","Attachment":"http://wahgazab.com/a-ufo-seen-in-rajasthan/ufo1-3/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/28118/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=154","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

भगवान राम और देवी सीता के प्रेम की अमर निशानी “राम सेतु”, देखिए वीडियो

प्रेम की निशानी कहा जाने वाले “ताजमहल” को तो आप जानते ही हैं, पर क्या आप भगवान राम और देवी सीता के प्रेम की अमर निशानी “रामसेतु” को जानते हैं, असल में इसके बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं, इसलिए आज हम आपको बता रहें हैं “रामसेतु” के बारे में ताकी आप जान सकें इस प्राचीन प्रेम कहानी की अमर निशानी को। भारत के दक्षिण में स्थित रामेश्वरम तथा श्रीलंका में स्थित मन्नार द्वीप के बीच में एक चट्टानी चेन है, जो की 3 से 30 फुट की गहराई में स्थित हैं और इस चेन को ही वर्तमान में “रामसेतु” या एडम ब्रिज कहा जाता है। रामसेतु की उम्र पर वर्तमान के शोधकर्ता एकमत नहीं हैं, कोई इसे 3500 साल तो कोई इसको 7000 वर्ष पुराना बताता है। माना जाता है कि यह सेतु भगवान राम ने देवी सीता को लाने के लिए पत्थरों की सहायता से बनवाया था और इसी सेतु से वे श्रीलंका में जाकर रावण का वध करके देवी सीता को वापस लाए थे। आइए अब इस वीडियो से ले सेतु की अन्य जानकारी।

Video Source:

Most Popular

To Top