_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/06/","Post":"http://wahgazab.com/%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%87%e0%a4%82%e0%a4%9c%e0%a5%80%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%b0-%e0%a4%aa%e0%a5%87%e0%a4%a1%e0%a4%bc-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%ac/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%87%e0%a4%82%e0%a4%9c%e0%a5%80%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%b0-%e0%a4%aa%e0%a5%87%e0%a4%a1%e0%a4%bc-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%ac/%e0%a4%87%e0%a4%b8-%e0%a4%98%e0%a4%b0-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%ac%e0%a4%a6%e0%a5%8c%e0%a4%b2%e0%a4%a4-%e0%a4%ac%e0%a4%a8%e0%a5%87-%e0%a4%b0%e0%a4%bf%e0%a4%95%e0%a5%89%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%a1/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/705a904e083c70cef81a3db17f0d9064/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

खाने का लालच देकर फेंका बंदर पर बम, घंटों दर्द से रोता रहा बंदर

 

समाज में कई बार ऐसी अमानवीय घटनाएं सामने आती हैं, जिनको देखकर दुख होता है। असल में बहुत से लोग जीव जंतुओं को अपने मनोरंजन का साधन मात्र समझते हैं और उनके साथ अमानवीय घटना को अंजाम देते हैं। इस प्रकार की घटना से ऐसे कुछ लोगों का भले ही मनोरंजन होता हो, पर जंगली जीव जंतु इस प्रकार की घटनाओं से गंभीर रूप से घायल हो जाते हैं तथा कई बार वे मर भी जाते हैं। हम आज आपको जो वीडियो दिखा रहें हैं, उसमें ऐसी ही अमानवीय घटना को अंजाम देता एक व्यक्ति दिखाया गया है। हालांकि इस व्यक्ति का वीडियो में चेहरा नहीं दिखाया गया है, पर यह व्यक्ति एक बंदर को खाने का लालच देकर एक पैकेट पकड़ा देता है और जैसे ही बंदर के हाथ में पैकेट पहुंचता है, वैसे ही उसमें ब्लास्ट हो जाता है। जिसके कारण बंदर के हाथ में गहरा जख्म हो जाता है और बंदर दर्द से चीखने लगता है, लेकिन इस कार्य को करने वाला व्यक्ति तथा उसके साथी इस कार्य से बहुत आनंदित होते हैं और हंसते हैं। जिनकी आवाज आप वीडियो में साफ तौर पर सुन सकते हैं। अब सवाल यह है कि इस प्रकार की मानसिकता जोकि बेजुबान और निरीह जीवों पर अत्याचार करने के लिए मानव को उकसाए आखिर मिलती कहां से है और कौन इस प्रकार की मानसिकता का पोषण करता है। इसका जबाब पता करना बेहद जरूरी है ताकि आगे इस प्रकार के कार्य न हो सकें और जंतुओं को अपने लिए एक सुरक्षित वातावरण मिल सके।

Video Source:
To Top