अब आ गई है पानी से चलने वाली कार

डीजल, पेट्रोल के बढ़ते दामों से सभी परेशान हैं। जैसा कि आप सभी जानते ही हैं कि अपने देश में पेट्रोल और डीजल के दाम हमेशा ऊपर नीचे होते रहते हैं। यदि कभी कुछ पैसे की दर से तेल के दाम घट भी जाते हैं तो इससे कार या बाइक चलाने वाले लोगों की जेब पर कोई खास फर्क नहीं पड़ता। इन सब बातों को ध्यान में रख कर अपने देश के ही एक बन्दे ने एक ऐसी कार का निर्माण किया है जो पेट्रोल या डीजल से नहीं बल्कि पानी से चलती है। जी हां पानी से…..

Video Source: https://www.youtube.com

इस कार का निर्माण मध्य प्रदेश के सागर जिले के मोहम्मद रहीस मकरानी (44) ने किया है। यहां हम बता दें कि मकरानी कोई वैज्ञानिक या इंजीनियर नही हैं। उन्होंने सिर्फ 12वीं क्लास तक पढ़ाई की है। मो. मकरानी का कहना है कि उन्होंने यह कार पीएम नरेंद्र मोदी के नारे मेक इन इंडिया से प्रेरित हो कर बनाई है।

इस तकनीकि से चलती है कार–
मकरानी ने बताया कि उन्होंने अपनी इस अनोखी कार को बनाने के लिए पानी और कार्बाइड से ऐसिटिलीन बनाकर इसे विद्युत ऊर्जा लिक्विड फ्यूल में बदलने की तकनीकि अपनाई है। उनके मुताबिक इस तकनीकि की वजह से यह कार 10-20 रुपए प्रति किलोमीटर के हिसाब से माइलेज देती है।

water carImage Source: https://encrypted-tbn3.gstatic.com

चीन ने दी दाद-
दुनियाभर में सस्ती तकनीकि देने के मामले में प्रसिद्ध चीन ने भी मकरानी के इस प्रोजेक्ट पर उनको बधाई दी है। मकरानी ने बताया कि वो अपनी इस ड्रीम कार को बनाने के लिए चीन भी गए थे। वहां पर भी लोगों ने उनकी कार का कॉन्सेप्ट सुनकर और उसे साकार रूप मिलता देख उनकी तारीफ की थी। सभी का मानना है कि ये कार उन कंपनियों के लिए एक मिसाल है जो पर्यावरण को बचाने के लिए अलग-अलग तकनीकें ढूंढ़ रही हैं। असल में इस कार का यह भी एक सबसे बड़ा फ़ायदा है कि यह पर्यावरण के लिए खतरा बनते जा रहे प्रदूषण को कम करने में बहुत सहायक होगी। मकरानी के अनुसार चीन की एक कंपनी ने उन्हें साथ काम करने का ऑफर भी दिया था। मकरानी का कहना है कि अब जब उनकी ये कार बनकर तैयार है तो वो जल्द ही इसके लिए पेटेंट की अर्जी देने जाएंगे।

water car sagarImage Source: http://i9.dainikbhaskar.com/

मकरानी के इस प्रोजेक्ट से जहां यह साबित होता है कि अपने देश में प्रतिभाओं की कमी नहीं है, वहीं दूसरी ओर भारत सरकार को भी ऐसे प्रतिभावान लोगों को प्रोत्साहित करने की पहल करनी चाहिए।

To Top