_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/02/","Post":"http://wahgazab.com/in-this-exceptional-wedding-invitation-is-given-on-leaves-and-gift-includes-planting-of-11111-trees/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/in-this-exceptional-wedding-invitation-is-given-on-leaves-and-gift-includes-planting-of-11111-trees/marriage-pic-1/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/38edcdf172ca4efbca56add1f895924c/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

मद्रास हाईकोर्ट ने एक कैदी को बच्चा पैदा करने के लिए दी जेल से छुट्टी

हाईकोर्ट

अपने देश में एक व्यक्ति को बच्चा पैदा करने के लिए जेल से छुट्टी मिली है। आपको यह खबर हास्यपद लग सकती है पर यह सच है। आपको बता दें कि यह मामला अपने देश के मद्रास से आया है। मद्रास की जेल में उम्र कैद की सजा काट रहें एक व्यक्ति को मद्रास हाईकोर्ट ने संभोग के लिए 2 हफ्ते की छुट्टी दी है। आपको बता दें कि इस कैदी का नाम “सिद्दीक अली तिरुनेलवेली” है। इस कैदी की वर्तमान उम्र 40 वर्ष है और यह उम्रकैद का दोषी है। सिद्दीक अली तिरुनेलवेली की पत्नी की बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर मद्रास हाईकोर्ट की न्यायमूर्ति टी. कृष्णा वल्ली तथा न्यायमूर्ति एस. विमला देवी की खंडपीठ ने 2 हफ्ते की छुट्टियों की मंजूरी दी है।

हाईकोर्टImage source:

कोर्ट ने अपने फैसले को सुनाते हुए यह कहा कि “वर्तमान समय में सरकार को कैदियों को संभोग के लिए अपनी पत्नियों के पास जाने के कार्य पर विचार के लिए समिति का गठन करना चाहिए। कई अन्य देशों में कैदियों को इस प्रकार के अधिकार दिए जाते हैं। कोर्ट ने यह भी बताया कि केंद्र सरकार ने एक प्रस्ताव को पारित कर कैदी को प्रजनन के लिए अपनी पत्नी के पास जानें का अधिकार दिया है हालांकि यह विशेषाधिकार नहीं है, पर कैदी की इच्छा को पूरी किया जाना ही चाहिए।” आपको बता दें कि जेल अधिकारियों ने कोर्ट में याचिका डालकर इस बात पर अपना एतराज भी जताया था, पर कोर्ट ने उनकी इस याचिका को खारिज कर दिया था। जेल अधिकारियों का कहना था कि अली का जीवन अभी खतरे में है तथा जेल में इस आधार पर छुट्टी देने का कोई अधिकार भी नहीं है। इस बात पर मद्रास हाईकोर्ट ने यह कहा कि असाधारण कारणों की वजह से कैदियों को छुट्टी दी जा सकती है। इस प्रकार से कोर्ट ने बच्चा पैदा करने के लिए एक उम्र कैद के कैदी को छुट्टी दी है।

Most Popular

To Top