स्वयं प्रकृति ने ही बना दिया दुनिया का सबसे बड़ा ‘ॐ’

‘ॐ’ एक ऐसा शब्द है जिसके उच्चारण मात्र से ही मन शान्त हो जाता है। हिन्दू धर्म में ‘ॐ’ शब्द की बहुत मान्यता है इस शब्द को भगवान शिव से जोड़ कर देखा जाता है। वैसे तो हर कोई किसी भी कार्य को करने के लिए इस शब्द का प्रयोग करता ही है, लेकिन क्या आपने कभी किसी पर्वत पर स्वयं बना हुआ ‘ॐ’ देखा है। हम जानते हैं आप इस बात पर यकीन नहीं करेंगे, लेकिन यह सच है। स्वयं प्रकृति ने ही इस शब्द को एक पर्वत पर बना दिया है।

anupsah©-Om-Parvat_distt_pithoragarhImage Source :http://3.bp.blogspot.com/

अगर आप यह सोच रहे हैं कि पर्वत पर यह किसी छोटे से आकार में बना हुआ होगा, तो बता दें कि ऐसा नहीं है। इस पर्वत पर बना यह ‘ॐ’ दुनिया का सबसे बड़ा ‘ॐ’ है। हिमालय की श्रृंखलाओं के बीच 6 किलोमीटर से भी ऊंचा यह पर्वत लिटिल कैलाश, बाबा कैलाश, कैलाश तथा जोंगलिंगकोग के नाम से जाना जाता है। यह शिखर बौद्ध, जैन तथा हिंदू तीनों धर्म के लोगों के लिए ही बहुत ज्यादा महत्व रखता है।

Pithoragarh-10184_4Image Source :http://www.holidayiq.com/

आपको बता दें कि इस पर्वत पर बना यह ‘ॐ’ शब्द किसी ने बनाया नहीं है बल्कि यह प्राकृतिक रूप से बना हुआ है। जब यह पर्वत बर्फ से ढका रहता है तो यह ‘ॐ’ शब्द स्पष्ट दिखने लगता है। जिसे कोई भी देख कर भगवान का ध्यान करने लगता है। इस पर्वत पर बने ‘ॐ’ के कारण कई लोग इसे ओम पर्वत भी कहते हैं।
हिन्दू धर्मग्रंथों में भी कहा गया है कि हिमालय पर्वत महादेव शिव का निवास स्थान है। इसीलिए लोगों का यह मानना है कि भगवान शिव ओम पर्वत पर ही रहते थे, लेकिन जब उनका परिवार बड़ा हुआ तो उन्होंने ओम पर्वत को छोड़ कर कैलाश पर्वत को अपना निवास स्थान बना लिया। इन पर्वत से संबंधित कहानियां कितनी भी क्यों ना हों लेकिन सबसे खास बात यह है कि इस पर्वत पर बना यह ‘ॐ’ अपने आप में काफी अद्भुत है।

To Top