_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/06/","Post":"http://wahgazab.com/%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%87%e0%a4%82%e0%a4%9c%e0%a5%80%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%b0-%e0%a4%aa%e0%a5%87%e0%a4%a1%e0%a4%bc-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%ac/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%87%e0%a4%82%e0%a4%9c%e0%a5%80%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%b0-%e0%a4%aa%e0%a5%87%e0%a4%a1%e0%a4%bc-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%ac/%e0%a4%87%e0%a4%b8-%e0%a4%98%e0%a4%b0-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%ac%e0%a4%a6%e0%a5%8c%e0%a4%b2%e0%a4%a4-%e0%a4%ac%e0%a4%a8%e0%a5%87-%e0%a4%b0%e0%a4%bf%e0%a4%95%e0%a5%89%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%a1/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/705a904e083c70cef81a3db17f0d9064/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

सरकार NEW INDIA के तहत सड़क के गड्ढों में लगवायेगी Wi-Fi, नहीं रुकेगा गिरने वालों का काम

NEW INDIA

 

जब से अपने देश के पीएम मोदी जी ने NEW INDIA कैम्पेन चलाया है तब से चारों और इस न्यू इण्डिया की ही बातें हो रहीं हैं। न सिर्फ न्यूज़ चैनलों पर बड़ी बड़ी डिबेट चल रहीं हैं बल्कि अनेक राज्य सरकारों के मंत्रालयों में भी इस न्यू इंडिया को लेकर लगातार बैठकों के दौर जारी हैं। सभी लोग इस न्यू इण्डिया की पहेली को सुलझाने में लगे है। कोई यह समझ नहीं आ पा रहा है कि न्यू इंडिया का यह नया मजमा आखिर किस न्यू प्रोडक्ट को लांच करने के लिए शुरू किया गया है। इन सब के बीच भारत की आर्थिक राजधानी कहें जाने वाले मुंबई की नगरपालिका ने शायद इस पहेली को सुलझा लिया है। नगर पालिका के सभी लोग इस बात पर गर्व कर रहें हैं कि जिस न्यू इण्डिया कैम्पेन को बड़े-बड़े बुद्दिजीवी नहीं सुलझा पाए उसको हम लोगों ने सबसे पहले सुलझा लिया है।

NEW INDIAImage Source:

अब मुंबई नगरपालिका न्यू इंडिया कैम्पेन पर काम करने भी लगी है। इसी के तहत नगरपालिका ने मुंबई की सडकों के गड्ढों को सुविधापूर्ण बनाने का निर्णय लिया है। नगरपालिका की ओर से जारी की गई।

विज्ञप्ति में यह कहा गया

“अब मुंबई की सड़क के गड्ढों को सुविधापूर्ण बनाया जायेगा और उनमें आम लोगों की सुविधा के लिए Wi-Fi लगवाया जायेगा ताकि यदि कोई व्यक्ति गड्ढे में धोखे से गिर जाए तब भी उसका मोबाइल पर चलने वाला काम न रुक सके।”

नगरपालिका अध्यक्ष चंपक लाल ने हमारे पत्रकार से इस बात की चर्चा करते हुए बताया “हमने कई ऐसे गड्ढों को देखा है जिनमें अक्सर लोग गिर जाते हैं। अब हम लोग सभी को बंद तो नहीं कर सकते हैं, पर हां भारत को NEW INDIA बनाने के लिए उन गड्ढों को सुविधापूर्ण अवश्य बना सकते हैं इसलिए हम लोगों ने ऐसे सभी गड्ढों में Wi-Fi लगवाने तथा ठंडे पानी की एक-दो बोतल रखवाने का विचार किया है ताकि यदि कोई व्यक्ति किसी गड्ढें में धोखे से गिर जाए तब भी उसके मोबाइल पर चलने वाला काम न रुके और गर्मी के दिनों में वह गड्ढे के अंदर रखें ठंडे पानी को पी सके।”

नगरपालिका सदस्य मनोहर सिंघल ने कहा कि “आजकल सभी लोग हर समय हाथ में मोबाइल लिए लगातार चलाते रहते ही हैं। चाहें वे सड़क पर चल रहें हों या टॉयलेट में बैठे हों। ऐसे लोग ही अक्सर सड़क के गड्डों में गिर जाते हैं इसलिए नगर पालिका की ओर से ऐसे लोगों के लिए यह सुविधा शुरु की गई है जो भारत को NEW INDIA की ओर जरूर ले जाएगी।”

NEW INDIAImage Source:

इस खबर से मुंबई के युवा बहुत खुश नजर आ रहें हैं वहीं दूसरी और कुछ लोग इस बात से बिल्कुल खफा हैं। ऐसे ही एक व्यक्ति हैं “नंदू लाल पियक्कड़” इनका कहना हैं कि “यह योजना सभी के लिए नहीं है। हम इसका घनघोर विरोध करते हैं। अब देखिये मैं दारु के नशें में कितनी बार सड़क के गड्ढे में गिरा हूं। हम जैसे लोगों के लिए भी यदि गड्ढों में 2 या 3 दारू के पव्वे रखवा दिए जाए तो क्या नुकसान है। मुंबई नगर पालिका को हम लोगों का भी सोचना चाहिए। अब देखिये मोदी जी “सबका साथ,सबका विकास” की बात करते हैं पर यहां तो मेरे जैसे सभी भाईयों के साथ खुला अन्याय हो रहा हैं। हम सभी लोग मिलकर पीएम आवास पर धरना देंगे।”

कुल मिलाकर NEW INDIA लगातार आगे की ओर बढ़ रहा है और बढ़ता ही जा रहा है। अब देखना यह है कि अपने देश का विकास अमेरिका से भी आगे कब तक पहुंचेगा।

विशेष नोट- इस तरह के आलेख से हमारा उद्देश्य केवल आपका मनोरंजन करना हैं। इसमें मौजूद नाम, संस्था और राजनीतिक पार्टियों की छवि को धूमिल करना हमारा उद्देश्य नहीं हैं। साथ ही इसमें बताया गया घटनाक्रम मात्र काल्पनिक हैं। अगर इससे कोई आहत होता हैं तो हमें बेहद खेद हैं।

To Top