_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/12/","Post":"http://wahgazab.com/know-about-the-amazing-bike-made-with-a-budget-of-13-thousand-and-runs-at-a-speed-of-650kmhr/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/know-about-the-amazing-bike-made-with-a-budget-of-13-thousand-and-runs-at-a-speed-of-650kmhr/know-about-the-amazing-bike-made-with-a-budget-of-13-thousand-and-runs-at-a-speed-cover/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

भगवान शिव के इस पातालेश्वर मंदिर में दर्शन करने से मिलता है चर्म रोगों से छुटकारा

पातालेश्वर मंदिर

 

वैसे तो अपने देश में भगवान शिव के बहुत से मंदिर हैं, पर उनमें से कुछ मंदिर ऐसे भी हैं जिनमें नित्य चमत्कार देखने को मिलते हैं। आज हम आपको एक ऐसे ही मंदिर से रूबरू करा रहें हैं। वर्तमान समय में सावन का महीना चल रहा है और इस महीने में भगवान शिव के प्रति लोगों की अपार श्रद्धा देखी जाती है। सावन के इस महीने में बहुत से लोग जहां भगवान शिव की कावड़ यात्रा करते हैं, वहीं बहुत से लोग नित्य ही शिवालय जाकर पूजन करते हैं। आज हम आपको जिस मंदिर के बारे में बता रहें हैं वहां भी सावन के महीने में विशेष भीड़ बनी रहती है। इस मंदिर की खासियत यह है कि यहां आने वाले किसी भी चर्मरोगी की बीमारी खत्म हो जाती है।

पातालेश्वर मंदिरImage Source:

आपको हम बता दें कि इस शिवालय का नाम “पातालेश्वर मंदिर” है और यह शिवालय उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद तथा आगरा राजमार्ग के बीच सदत्बदी गांव में स्थित है। यहां के स्थानीय निवासियों का कहना है कि यदि इस मंदिर में कोई भी झाडू को दान देता है तो उसके त्वचा संबंधी सभी रोग खत्म हो जाते हैं। आपको हम बता दें कि यह एक प्राचीन मंदिर है और यहां सदियों से लोग झाड़ू चढ़ाकर त्वचा के रोगों से मुक्ति पाते आ रहें हैं। कहा जाता है कि यहां पर भिखारीदास नामक एक व्यापारी प्राचीन समय में रहता था। इस व्यापारी को त्वचा संबंधी रोग थे। एक बार यह इस स्थान से गुजर रहा था, तब उसको प्यास लगी और वह इस स्थान पर बने एक संत के आश्रम में गया। वहां भिखारीदास का पैर एक झाड़ू से टकरा गया और उसके सभी त्वचा रोग दूर हो गए। भिखारीदास के लिए यह किसी चमत्कार से कम नहीं था। इसके बाद भिखारीदास ने यहां पर एक शिव मंदिर बनवाया, जो आज भी यहीं स्थित है। आज भी लोग यहां झाड़ू चढ़ा कर अपने रोगों को दूर करते हैं।

Most Popular

To Top