सबका हक फ्रीडम 251, इस आदमी लिए बना सिरदर्द !

0
368

सिर्फ 251 रुपए में स्मार्टफ़ोन मिलने की बात देश में आंधी की तरह फ़ैल गई। तब से हर कोई बस इसी कोशिश में था कि कैसे वह इस फ़ोन की बुकिंग करवाए ताकि उसके पास भी यह निहायती सस्ता स्मार्ट फ़ोन हो। यह फ़ोन रिंगिंग बेल्स प्राइवेट लिमिटेड नामक कंपनी ने बनाया है। इस फ़ोन का नाम है फ्रीडम 251, जिसे मेक इन इण्डिया कार्यक्रम के तहत लॉन्च किया गया है। इस फोन का प्रमोशन सबका हक, फ्रीडम 251 नाम के स्लोगन से किया गया है।

1Image Source: http://stech1.firstpost.com/

वहीं, इस फ़ोन की बिक्री इलाहाबाद के रहने वाले सुनील चतुर्वेदी पर उस वक्त भारी पड़ गई जब इस फ़ोन की बुकिंग के लिए गलती से कंपनी ने सुनील का मोबाइल नंबर कोंची अनमोल इलेक्ट्रॉनिक्स के नाम पर पेपर में एक विज्ञापन में दे दिया। न्यूज़ पेपर में सुनील का नंबर इस फ़ोन को बेचने वाले डीलरों में दिया हुआ था। बस फिर क्या था, तभी से सुनील के फ़ोन की घंटी ऐसी बजी कि फिर अभी तक बिना रुके बज रही है। जैसे ही सुनील एक व्यक्ति का फ़ोन उठाते हैं पीछे से उनके फोन में वेटिंग आने लगती है। वह यह बात सबको बताते-बताते थक गए कि असल में वह कोई फ़ोन डीलर नहीं हैं। वह सबको यही समझाते हैं कि यह रॉन्ग नंबर है।

रॉन्ग नंबर बताना पड़ रहा है महंगा

2Image Source: http://tarunmitra.in/newsarea/

जब सुनील फ़ोन पर सबको यह बताते हैं कि यह रॉन्ग नंबर है, तो बहुत से लोग उन्हें गाली देते हैं। इतना ही नहीं कइयों ने तो उन पर फ़ोन की कालाबाज़ारी तक करने का आरोप लगाया है। फ्रीडम 251 चाहे पूरे देश के लिए एक तोहफे जैसा हो, लेकिन इसने सुनील की रातों की नींद और दिन का चैन छीन लिया है। उन्हें सोते वक्त भी फ़ोन की घंटी की आवाज़ सुनाई देती है। उन्हें देश के कोने-कोने से फ़ोन आते हैं।

सुनील नहीं बंद करवा सकते यह नंबर

3Image Source: http://images.indiatvnews.com/

दरअसल सुनील का विज्ञापन का बिज़नेस है। वह अपना बिज़नेस इसी नंबर से करते हैं। जैसे ही अपने किसी काम से अपने फ़ोन में 1 डिजिट मिलाते हैं, उनके पास किसी दूसरे का कॉल आ जाता है और यह सिलसिला यूं ही चलता रहता है। उनके फ़ोन की बैटरी अब 1 घंटे से ज्यादा नहीं चल पाती। इस घटना से ऐसा लगता है कि फ्रीडम 251 चाहे पूरे देश के लिए एक सौगात हो, लेकिन सुनील के लिए यह एक सरदर्द बन गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here