_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/01/","Post":"http://wahgazab.com/know-about-these-simple-uses-of-peacock-feather-to-bring-happiness-and-prosperity-to-home/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/because-of-the-stone-hearted-up-police-2-youngsters-lost-their-lives/jijvan-pic/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

रमजान विशेष – इन कायदों को पूरा कर आप पा सकते हैं रोजों में 70 गुना सवाब

ramadan

 

जैसा की आप जानते हैं कि रमजान का महीना चल रहा है इसी क्रम में आज हम आपको बता रहें हैं रमजान के इस पवित्र महीने में करने योग्य वह कार्य जिनसे आप पा सकते हैं 70 गुना सवाब। रमजान का पूरा महीना इबादत का होता है और इसमें सभी रोजे फर्ज होते हैं, हालांकि कुछ विशेष परिस्थितियों में इनमें छूट की गुंजाईश भी बताई गई है। इस महीने में सबसे ज्यादा समय इबादत में गुजारना तथा नेक के कार्यों को करना बताया जाता है, कहा जाता है कि इससे आपको रोजों का 70 गुना सवाब मिलता है, इसलिए हम यहां आपको कुछ ऐसे कार्य बता रहें हैं जिनको अपनाकर आप ज्यादा से ज्यादा रहमत के हकदार बन जाएंगे, तो आइये जानते हैं इन कार्यों के बारे में।

ramadanimage source:

सबसे पहली बात है कि रमजान के इस पवित्र महीने में ज्यादा से ज्यादा समय इबादत में देना चाहिए। इसके बाद जकात का कार्य आता है। जकात को सामान्य भाषा में दान कहा जाता है। आप इस महीने में ज्यादा से ज्यादा जरूरतमंद लोगों को जकात देकर अधिक सवाब के हकदार बनते हैं। बहुत से लोग ज्यादा जकात नहीं दे सकते हैं, इसलिए अपनी समर्थानुसार जकात जरूर देनी चाहिए। इस महीने में पूरे 5 समय की नमाज अदा करनी चाहिए। नमाज और जकात ये दोनों ही चीजें आपको न सिर्फ दीनी बनाती हैं, बल्कि आपको एक सच्चा इंसान भी बनाती हैं।

ramadanimage source:

इसके अलावा रमजान के इस महीने में सिगरेट, तंबाकू जैसी चीजों का उपयोग नहीं करना चाहिए, क्योंकि इनसे रोजा टूट जाता है और इस महीने में आपको किसी भी अन्य व्यक्ति को अपने शरीर या शब्दों से कोई कष्ट नहीं पहुंचना चाहिए तथा झूठ बोलना तथा चुगली करना जैसे कार्य नहीं करने चाहिए।

इस महीने में सोने से पहले दिनभर किए गए कार्यों के बारे में सोचने की सलाह दी जाती है, ताकि कोई कार्य यदि गलती से भी गलत हो गया हो, तो उसकी माफी मांग ली जाए। यदि आप में सामर्थ है तो आप रोजेदार लोगों के लिए सहरी तथा इफ्तार की दावत दे सकते हैं, यह कार्य भी बहुत सवाब का माना गया है। इस प्रकार के सभी अच्छे कार्यों को अपने दैनिक जीवन में भी उतारने की सलाह इस पवित्र महीने में दी जाती है, ताकि आप पर वर्षभर खुदा की मेहर बरसती रहे।

Most Popular

To Top