_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/06/","Post":"http://wahgazab.com/check-out-the-first-tv-commercial-of-dabbu-uncle-and-the-dance-he-did/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/this-infant-started-to-walk-just-after-birth-doctors-are-surprised/video-8/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/ea6a6e77ca639bd8e8c69deaa8f1ad28/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

मोबाइल पर अधिक गेम खेलना बना हानिकारक, शरीर से निकल गया यह अंग

मोबाइल

मोबाइल का ज्यादा यूज स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। इस बात को तो आप जानते ही होंगे, पर यहां जिस घटना के बारे में हम आपको बता रहें हैं वह अपने आप में बेहद खास है। आपको बता दें कि यह मामला चीन से सामने आया है। चीन के एक व्यक्ति को टॉयलेट करते समय मोबाइल पर गेम खेलने की आदत थी। इस आदत के कारण ही उसके साथ जो हुआ उसको जानकर डॉक्टर तक चकित हैं। चीन के बीजिंग में रहने वाला यह युवक जब टॉयलेट करते समय गेम खेलने में व्यस्त था तब उसके शरीर से एक अंग बाहर निकल गया।

इस शख्स को करीब 30 मिनट तक रेक्टल प्रोलैप्स से गुजरना पड़ा। आपको बता दें कि रेक्टल प्रोलैप्स वह अवस्था होती है जब बड़ी आंत के अंत में जुड़ा मलाशय अपनी पकड़ को खो देता है तथा मलद्वार से बाहर की ओर निकल आता है। इस घटना के बाद डाक्टरों ने सर्जरी कर इस युवक का रेक्टल प्रोलैप्स बाहर निकाला।

मोबाइलImage source:

फिलहाल मरीज अस्पताल में है और डॉक्टरों की देखरेख में है। डॉक्टरों का कहना है कि मरीज को इस प्रकार की समस्या 4 वर्ष की उम्र भी हुई थी, पर उसके बाद रेक्टल अपनी सामान्य अवस्था में आ चुका था। डॉक्टर सु डैन ने इस बारे में कहा कि “ऐसे मामलों में ज्यादातर रेक्टल खुद ही अपनी सामान्य अवस्था में आ जाता है पर इस युवक के साथ ऐसा नहीं हुआ था। इसको अस्पताल लाने में कुछ और देर हो जाती तब मरीज की हालत और भी बिगड़ जाती। अमेरिका की कोलन एंड रेक्टल सर्जन्स सोसायटी द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि रेक्टल का ऐसा मामला 2 लाख में से किन्ही 2 लोगों के साथ होता है तथा बाकि के बचे एक तिहाई लोग कब्ज की शिकायत से परेशान रहते हैं। डॉक्टरों ने अभी तक इस समस्या का कारण तथा प्रभावकारी उपचार पता नहीं लगाया है। इन लोगों कहना है कि बच्चे को जन्म देते समय टिशू का डैमेज होना तथा मलत्याग के समय जोर लगाना इसके कारण हो सकते है। खैर हम तो यही कहेंगे कि टायलेटग करते समय मोबाइल का उपयोग न ही करें तो बेहतर है।  

To Top