‘रफ्तार की सौदागर’ हैं अलीशा अब्दुल्लाह

0
326

लड़कियां लड़कों से किसी भी काम में पीछे नहीं रही हैं। ये बात वैसे तो स्पोर्ट्स में क्रिकेट, टेनिस और बैंडमिंटन में आगे आकर लड़कियां साबित कर चुकी हैं, लेकिन आज हम आपको भारत की इकलौती महिला रेसर के बारे में बताने जा रहे हैं। जो स्पोर्ट्स में नहीं बल्कि कार और बाइक रेसिंग में आगे आकर नाम कमा रही हैं। अलीशा अब्दुल्ला भारत की पहली और एकमात्र महिला सुपरबाइक रेसर हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि वह भारत की सबसे फास्टेस्ट महिला कार रेसर भी हैं।

1Image Source: http://s4.scoopwhoop.com/

इनके पिता आर ए अब्दुल्ला बाइक रेसिंग में सात बार नेशनल चैंपियन रह चुके हैं। अलीशा को उनके पिता ने ही बाइक गिफ्ट की थी। बता दें की अलीशा ने 9 साल की उम्र में ही रेसिंग करनी शुरू कर दी थी। 11 साल की उम्र में उन्होंने गो-कार्टिंग रेसिंग जीती थी। 13 साल की उम्र में अलीशा ने नेशनल गो कार्टिंग चैम्पियनशिप जीत ली। इसी साल उन्हें नेशनल लेवल फॉर्मूला कार रेसिंग चैम्पियनशिप में भी बेस्ट न्यूकमर का अवॉर्ड मिला था। वहीं साल 2004 में 15 साल की अलीशा ने जेके टायर नेशनल रेसिंग चैम्पियनशिप में टॉप 5 में अपनी जगह बनाई। जिसके बाद भारत को अपनी सनीसनीखेज फीमेल बाइक रेसर मिली। जिसके बाद अलीशा को बाइक क्वीन कहा जाने लगा। जब वह 18 साल की हुईं तो उनके पिता ने फिर उन्हें 600 सीसी की बाइक गिफ्ट की।

2Image Source: http://i9.dainikbhaskar.com/

बाइक क्वीन कही जाने वाली अलीशा की रफ्तार यहीं नहीं थमती, लेकिन साल 2010 में उनका एक्सिडेंट हो गया। जिसके बाद अलीशा ने बाइक रेसिंग को अलविदा कह कर मोटर यानि फोर व्हिलर रेसिंग को शुरू कर दिया। बता दें कि साल 2014 में वह टोयोटा विओज कप में शानदार प्रदर्शन के चलते पोडियम पर तिरंगा हाथ में लेकर भी खड़ी हुई थी।

imgImage Source: http://s4.scoopwhoop.com/

फिल्म में भी कर चुकी हैं अभिनय-

अलीशा का जन्म 24 जुलाई 1989 को चेन्नई में हुआ था। वह फिलहाल चेन्नई के लोयला इंस्टीट्यूट ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट से स्टडी भी कर रही हैं। बता दें कि एक धाकड़ रेसर के रूप में उन्होंने साल 2014 में आई तमिल फिल्म  ‘ईरुम्बु कुथिरयी’ में काम किया था। इस साल भी उनकी एक फिल्म आने वाली है। जिन लोगों को अलीशा की रेसिंग के बारे में नहीं पता वह उन्हें स्टार ही मानते हैं और जिनको पता है वह सोचकर ही डर जाते हैं कि भारत में इतनी खतरनाक महिला रेसर भी है। खैर बात चाहे जो भी हो लेकिन आज के वक्त में अलीशा एक मिसाल हैं, जिनसे प्रोत्साहित होकर लड़कियां बाइक रेसिंग में नया मुकाम हासिल करने के बारे में सोच सकती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here