_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/12/","Post":"http://wahgazab.com/one-of-the-top-5-south-indian-movie-that-earns-a-lot-of-fortune/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/?attachment_id=43757","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

हमारी धरती लाखों साल पहले ही हो जाती ख़त्म, जानें इस नए शोध के बारे में

शोध

 

पृथ्वी के खात्मे के बारे में कई प्रकार की अवधारणाएं आई हैं। मगर हालही में एक बेहद चौकाने वाला शोध सामने आया हैं और आज हम आपको उसी शोध के बारे में ही बता रहें हैं। यह शोध इस बात को बताता हैं कि हमारी पृथ्वी लाखों वर्ष पहले ही ख़त्म हो गई होती। वर्तमान समय की बात करें तो आज दुनिया का हर देश यहां पर बढ़ते प्रदुषण की वजह से बहुत परेशान हैं। आपको बता दें कि हालही में एक शोध सामने आया हैं। इस शोध में यह कहा गया हैं कि यदि दुनिया में आक्सीजन का स्तर बढ़ता रहता तो हमारी धरती करीब 40 करोड़ वर्ष पहले ही ख़त्म हो गई होती।

शोधImage Source:

यह भी पढ़ें – पृथ्वी से जल्द ही खत्म हो जाएगी मानव जाति, बड़े विनाश की ओर जा रही है धरती

इस शोध में इस बात को बताया गया कि हमारी धरती पर जलवायु परिवर्तन तथा जैव विविधता इसका संतुलन बनाने के लिए बहुत जरुरी हैं यदि ऐसा न हुआ होता और आक्सीजन की मात्रा धरती पर बढ़ती चली जाती तो करीब 40 करोड़ वर्ष पहले ही विस्फोट में हमारी दुनिया नष्ट हो गई होती। अमेरिका की वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर कोल एडवर्ड इस बारे में बताते हैं कि “जैव विविधता, जैव विविधता में बहुत सहयोगी हैं साथ ही यह जलवायु के अन्य सभी कारकों के उत्पादन में भी बहुत सहयोग करती हैं और ये दोनों पक्ष अपने आप में स्वतंत्र हैं।” इस शोध का सार यह था कि यदि आक्सीजन का उपभोग हमारी धरती पर न हुआ होता और यह बढ़ती ही रहती तो बहुत पहले ही पृथ्वी ख़त्म हो गई होती।

Most Popular

To Top