क्या कभी देखी है फाइव स्टार जेल

0
530

अगर किसी फाइव स्टार होटल की बात की जाए तो यह एक सामान्य सी बात लगती है, लेकिन अगर कोई 5 स्टार जेल की बात करे तो क्या यह बात आपको सामान्य लगेगी? बिल्कुल नहीं, क्योंकि जेल से हमें एशो आराम की ज़िन्दगी नहीं बल्कि दंड काटते कैदी याद आते हैं पर आपको यह जानकार हैरानी होगी कि ऑस्ट्रिया में जस्टिस सेंटर लियोबेन नाम की एक ऐसी जेल है जहां के कैदियों को किसी 5 स्टार होटल जैसी सुविधाएं मिलती हैं। इस जेल में कैदियों का जीवन काफी ज्यादा बेहतर है। वह हर तरह की लक्ज़री के बीच अपनी सज़ा काटते हैं। जिसे आप सजा कम और मज़ा ज्यादा कहें तो अच्छा होगा।

अगर-किसी-फाइव-स्टार-होटल-की-बात-की-जाए-तोImage Source :http://postdekho.com/

जस्टिस सेंटर लियोबिन दुनिया की पहली और एक मात्र 5 स्टार जेल है। इस जेल को 2005 में शुरू किया गया था। इस जेल को प्रसिद्ध आर्किटेक्ट जोसेफ होहेंसिन्न ने डिज़ाइन किया था। इस जेल की एक और ख़ास बात है कि यह जेल ऑस्ट्रिया के लियोबेन में पहाड़ी इलाकों के बीचों-बीच बनी है।

जस्टिस-सेंटर-लियोबिन-दुनिया-की-पहली-और-एक-मात्रImage Source:http://4.bp.blogspot.com/

इस अति आधुनिक और आलीशान जेल में 205 कैदियों के रहने की व्यवस्था है। यहां वह सब कुछ है जो एक लक्ज़री 5 स्टार होटल में होता है। यहां पर जिम, स्पा, कई किस्म के इनडोर खेल खेलने की सुविधा और पर्सनल हॉबीज़ पूरी करने की सुविधाएं भी हैं। यहां एक जेल के अंदर 13 कैदियों के रहने व्यवस्था है। साथ ही अगर कैदी चाहें तो अपनी सेल किसी दूसरे कैदी के साथ शेयर भी कर सकते हैं। इसके अलावा यहां कैदियों को पर्सनल बाथरूम, लिविंग रूम व किचन की सुविधा भी मिली हुई है। साथ ही कमरों में बड़ी सी खिड़की भी है, जिससे बाहर के सुन्दर नज़ारे को देखा जा सकता है। इतना ही नहीं अगर कैदी चाहें तो घूमने के लिए जेल के अंदर एक काफी बड़ी जगह दी हुई है, वहां जाकर कैदी सुबह-शाम की ताज़ी हवा का लुत्फ़ उठा सकते हैं। इसके अलावा जेल के दूसरे हिस्से में कोर्ट के काम होते हैं। इसलिए इस जगह पर आम लोग भी आ-जा सकते हैं।

इस-अति-आधुनिक-और-आलीशान-जेल-में-205Image Source :http://4.bp.blogspot.com/

अपने आप में यह एक अनोखी जेल है, जहां कैदियों को सजा की जगह कई प्रकार की आधुनिक सुविधाएं मुहैया कराई जाती हैं। इस जेल को बनाने का वहां की सरकार का क्या मकसद है यह तो वही बता सकते हैं, लेकिन इससे फिर यह बात साफ़ होती है कि यह दुनिया बहुत विचित्र है। जरूरी नहीं कि जो चीज़ शुरू से जैसी चलती आ रही है, हर किसी का नजरिया उसके लिए एक हो। दुनिया में इस तरह की चीज़ें पहले भी होती आई हैं और शायद आगे भी होती रहेंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here