क्रिकेट में ‘मैन ऑफ़ द मैच’ का फ़ैसला कौन लेता है?

-

क्रिकेट मैच की बात करें, तो ऐसा कौन शख्स होगा जो इसे देखने के पूरे मजे ना लेता हो। अपने काम में देरी हो जाये पर मैच को देखना नही भूलते। मैच में होने वाले चौके छक्के या फिर विकेट लेने के तरीके से ही अंदाजा लगा लेते है कि इस बार का ‘मैन ऑफ़ द मैच’  किस खिलाड़ी को  मिलेगा। क्या ये खिताब जीतने वाली टीम को मिलता है या हारने वाली टीम को भी मिलता है? क्या आप ये भी जानते है कि ये खिताब ‘मैन ऑफ़ द मैच’ देने का फ़ैसला लेता कौन है?

जीं हां, आज हम आपको इस बारे में जानकारी देते है। कि ‘मैन ऑफ़ द मैच’ किसके द्वारा और किस खिलाड़ी को दिया जा सकता है। जो खिलाड़ी  टीम की ओर से सबसे ज़्यादा रन बनाता है या विकेट लेता उस खिलाड़ी को ही ये पुरस्कार मिलता है। कुछ मामलों में हारने वाले टीम के खिलाड़ी को भी ‘मैन ऑफ़ द मैच’ मिल जाता है।अब  ‘मैन ऑफ़ द मैच’ देने का फ़ैसला कौन लेता है?

'मैन ऑफ़ द मैच'

आप मैच के दौरान देखते है कि हर एक पल की जानकारी हमें कमेंटेटर के द्वारा प्राप्त होती रहती है।  जिनकी बारीक से बारीक नज़र पूरे मैच पर होती है, और यही लोग अपनी कमेंट्री के द्वारा पूरे खेल को और अधिक रोमांचक बना देते हैंये वो लोग होते हैं जिनके पास खेल की अच्छी जानकारी होती है, जो खेल के प्रति ज्यादा अनुभवी होते है। इनमे से ज़्यादातर पुराने खिलाड़ी ही होते हैं। ‘मैन ऑफ़ द मैच’ चुनने का काम भी इन्हीं का होता हैजितने भी कमंटेटर होते है सभी अलग अलग भाषाओं वाले होते है। जो एक साथ मिलकर पूरे मैच का फ़ैसला करते हैं कि किसे आज के मैच के लिए ये पुरस्कार दिया जाए।

कभी-कभी इनके (कमंटेटर) अलावा मैच रेफ़्री और दूसरे वरिष्ठ खिलाड़ी भी ‘मैन ऑफ़ द मैच’ चुनने वाले पैनल का हिस्सा बन जाते हैं। जब भी किसी बड़ी श्रृंख्ला का मैच जैसे चैंपियंस ट्रॉफ़ी या वर्ल्ड कप होता है तो उस दौरान ‘मैन ऑफ़ द मैच’ चुनने के लिए अलग से पैनल तैयार किया जाता है।

'मैन ऑफ़ द मैच'

Pratibha Tripathihttp://wahgazab.com
कलम में जितनी शक्ति होती है वो किसी और में नही।और मै इसी शक्ति के बल से लोगों तक हर खबर पहुचाने का एक साधन हूं।

Share this article

Recent posts

देखो भाई अजब तमाशा, जापान ने बनाया ऐसा टॉयलेट जो बोले खुलेपन की भाषा

वैसे तो पारदर्शिता या जिसे आप ट्रांसपेरेंसी कहते हैं वो चाहिए तो संबंधों में थी उससे मन साफ रहता पर चलिए यहाँ शौचालय पारदर्शी...

आजादी की आखिरी रात यानी १५ अगस्त, १९४७ को घटनाक्रम ने क्या-क्या मोड़ लिए थे, आईये जानते हैं

इस वर्ष यानि 2020 का स्वतंत्रता दिवस गत वर्षों से भिन्न होगा | दुर्भाग्यवश कोरोना महामारी से हमारा देश और पूरा विश्व प्रभावित है...

मशहूर शायर राहत इंदौरी का दिल का दौरा पड़ने से हुआ निधन

कल शाम दिल का दौरा पड़ने से मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन हो गया | ज़िन्दगी के ७० बरस गुज़ार चुकने के बाद...

बाबा ज्योति गिरि महाराज की काली करतूत वीडियो में हुई दर्ज

बाबा राम रहीम और आसाराम बापू के बाद हरियाणा के मार्केट में एक और बाबा का नाम नाबालिगों के साथ कथित तौर पर बलात्कार...

डब्बू अंकल को टक्कर देने आ गए डॉक्टर अंकल, कमरिया ऐसी लचकाई कि लोग हो गए दीवाने

बहुत वक़्त नहीं हुआ जब आपने एक शादी समारोह में भोपाल के संजीव श्रीवास्तव (डब्बू अंकल) नाम के व्यक्ति को गोविंदा के गाने पर...

Popular categories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent comments