आजादी की आखिरी रात यानी १५ अगस्त, १९४७ को घटनाक्रम ने क्या-क्या मोड़ लिए थे, आईये जानते हैं

-

इस वर्ष यानि 2020 का स्वतंत्रता दिवस गत वर्षों से भिन्न होगा | दुर्भाग्यवश कोरोना महामारी से हमारा देश और पूरा विश्व प्रभावित है | हर देश यथाशक्ति हर आवश्यक कदम उठा रहे हैं इस भीषण महामारी से निजात पाने की | भारत में भी हमारे डॉक्टर्स, स्वास्थकर्मी, पुलिस प्रशासन और अन्य कर्मचारी अपना रात-दिन एक किये हुए हैं जिससे हम इससे जल्द से जल्द बाहर निकलें |

तो इन हालातों के मद्देनज़र इस बार स्वंत्रता दिवस पर सामजिक दूरी का पालन करें, मास्क पहन कर और सैनिटाइज़ेशन का ध्यान रखते हुए किसी भी स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में बहुत कम संख्या में जितना कि प्रशासन अनुमति दे, उपस्थित हों अन्यथा घर पर ही उन सेनानियों, शहीदों, वीरों और वीरांगनाओं की शौर्य गाथाओं को याद करें |

ऐसे में हम आपको कुछ रोचक तथ्यों के बारे में बताने जा रहे हैं जो स्वतंत्रता मिलने की रात यानी 15 अगस्त 1947 की रात से सम्बंधित है |

भारत को आजाद हुए इस वर्ष ७३ साल पूरे हो जायेंगे पर बहुत ही गिने चुने लोग इस बात को जानते हैं कि भारत की आजादी की आखरी रात यानि 15 अगस्त 1947 की रात को आखिर क्या हुआ था, आखिर क्या बात थी कि देश को आजादी अंग्रेजों ने रात 12 बजे ही दी। इस प्रकार के कुछ ऐसे अनसुने प्रश्न हैं जिस के बारे में बहुत लोगों को नहीं पता है इसलिए आज हम आपको इन प्रश्नों के उत्तर देने के लिए ये पोस्ट लाये हैं ताकि आपको भी इस छिपे हुए सत्य का पता लग सके|

गुलामी की वह आखरी रात –

freedom india1Image Source:

15 अगस्त 1947 की रात वह रात थी जब लोग सोए तो थे गुलाम भारत में जब वह उठे तो वह सुबह एक आजाद भारत की थी, एक स्वतंत्र भारत की सुबह। इस आखरी रात में जब भारत की स्वतंत्रता की घोषणा होनी थी उस समय किस्तान में भी जश्न मनाया गया था। देश में आजादी की सुबह आ गई थी पर देश की इस आजादी की सुबह को लेन की कितनी बड़ी कीमत चुकानी पड़ी थी इस बारे में बहुत कम लोग जानते हैं।
15 अगस्त 1947 की आधी रात को आजादी का जश्न शुरू हो गया था और इसकी शुरुआत वर्तमान संसद भवन से ही हुई थी। संसद भवन के सेंट्रल हॉल में ही भारत की आजादी का पप्रोग्राम शुरू किया गया था।

freedom india2Image Source:

इसी 15 अगस्त 1947 की रात को नेहरू जी ने देश को एक ऐतिहासिक भाषण दिया था और सभी को आजादी का सन्देश दिया

freedom india3Image Source:

लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं आजादी की इस रात को महात्मा गांधी बिल्कुल नदारद थे, न तो वे खुश थे और न ही उन्होंने तिरंगे को लहराया था, प्रश्न उठते है कि वह किस बात पर नाराज थे और वे दिल्ली में नहीं थे तो कहां थे तथा जिस आजादी के लिए उन्होंने जीवन भर लड़ाई लड़ी उसकी वे कोई खुशी क्यों नहीं मना रहें थे।

freedom india4Image Source:

आखिर क्यों नहीं मनाई गांधी जी ने आजादी की खुशी –

बहुत कम लोग जानते हैं कि जिस रात भारत के आजाद होने की घोषणा की गई थी उस रात को गांधी जी दिल्ली में नहीं थे और न ही उन्होंने भारत के आजाद होने की कोई खुशी मनाई थी, असल में गांधी जी उस समय कोलकाता में थे और उन्होंने तिरंगे को भी नहीं फहराया और न ही उन्होंने किसी भी प्रोग्राम में हिस्सा लिया था। इसके पीछे वजह यह थी कि 16 अगस्त 1946 को बंगाल में दंगे शुरू हो गए थे और ये दंगे धीरे-धीरे बंगाल में फैलते गए, इसके बाद एक बड़ा दर्द विभाजन का भी था। जिसमें बहुत ज्यादा लोगों को बेमौत मारा गया था। गांधी जी इन सब बातों से बहुत ज्यादा दुखी थे इसलिए वे उस रात दिल्ली में नहीं थे और 15 अगस्त को उन्होंने 24 घंटे का उपवास भी रखा था। कई नेता लोग भी गांधी जी को बुलाने के लिए उनके पास पहुंचे थे पर गांधी जी ने साफ मना कर दिया था और उन्होंने नोखाली से प्रेस विज्ञप्ति जारी करके कहा कि “मैं हिन्दुस्तान के उन करोड़ों लोगों को ये संदेश देना चाहता हूं कि ये जो तथाकथित आजादी आ रही है ये मैं नहीं लाया ये सत्ता के लालची लोग सत्ता के हस्तांतरण के चक्कर में फंस कर लाए हैं।”

रात 12 बजे ही क्यों मिली आजादी –

बहुत कम लोग जानते हैं कि भारत के अंतिम वायसराय लार्ड माउंटबेटन से भारत को आजाद करने के लिए सबसे पहले 3 जून, 1948 की तारीख चुनी थी पर एकाएक उन्होंने इस तारीख को बदल कर 15 अगस्त, 1947 की तारीख कर दी, तब भारत के ज्योतिषियों में खलबली मच गई थी। असल में भारत के ज्योतिषियों के अनुसार यह तारीख बहुत अमंगल थी इसलिए नेहरू और पटेल सहित कई बड़े नेता भी इस तारीख को बदलवाना चाहते, परंतु लार्ड माउंटबेटन अपनी बात पर अडिग थे। इसलिए भारतीय ज्योतिषियों ने यह उपाय किया कि भारत की आजादी की घोषणा आधी रात को की जाए ताकि भविष्य में भारत पर खतरा न बना रहें, यही कारण था कि भारत की आजादी की घोषणा आधी रात को ही की गई थी और नेहरू जी ने अपनी स्पीच को 12 बजे तक खत्म करके इसकी सार्वजानिक घोषणा की।

shrikant vishnoihttp://wahgazab.com
किसी भी लेखक का संसार उसके विचार होते है, जिन्हे वो कागज़ पर कलम के माध्यम से प्रगट करता है। मुझे पढ़ना ही मुझे जानना है। श्री= [प्रेम,शांति, ऐश्वर्यता]

Share this article

Recent posts

देखो भाई अजब तमाशा, जापान ने बनाया ऐसा टॉयलेट जो बोले खुलेपन की भाषा

वैसे तो पारदर्शिता या जिसे आप ट्रांसपेरेंसी कहते हैं वो चाहिए तो संबंधों में थी उससे मन साफ रहता पर चलिए यहाँ शौचालय पारदर्शी...

आजादी की आखिरी रात यानी १५ अगस्त, १९४७ को घटनाक्रम ने क्या-क्या मोड़ लिए थे, आईये जानते हैं

इस वर्ष यानि 2020 का स्वतंत्रता दिवस गत वर्षों से भिन्न होगा | दुर्भाग्यवश कोरोना महामारी से हमारा देश और पूरा विश्व प्रभावित है...

मशहूर शायर राहत इंदौरी का दिल का दौरा पड़ने से हुआ निधन

कल शाम दिल का दौरा पड़ने से मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन हो गया | ज़िन्दगी के ७० बरस गुज़ार चुकने के बाद...

बाबा ज्योति गिरि महाराज की काली करतूत वीडियो में हुई दर्ज

बाबा राम रहीम और आसाराम बापू के बाद हरियाणा के मार्केट में एक और बाबा का नाम नाबालिगों के साथ कथित तौर पर बलात्कार...

डब्बू अंकल को टक्कर देने आ गए डॉक्टर अंकल, कमरिया ऐसी लचकाई कि लोग हो गए दीवाने

बहुत वक़्त नहीं हुआ जब आपने एक शादी समारोह में भोपाल के संजीव श्रीवास्तव (डब्बू अंकल) नाम के व्यक्ति को गोविंदा के गाने पर...

Popular categories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent comments