इंसानियत- गम्भीर बीमारी से ग्रस्त इस बच्चे का इलाज कराया विदेशी महिला ने

0
899

इस बच्चे का नाम है महेंद्र अहिरवार, जब यह मात्र 13 साल का था तो इसको इसके गांव में एक लावारिस बच्चे की तरह ही छोड़ दिया गया था, क्योंकि इस बच्चे को कॉन्गेनाइटल मायोथेरेपी नामक एक गम्भीर बीमारी थी और इलाज करने के लिए माता-पिता के पास पैसे नहीं थे। इस बीमारी की वजह से महेंद्र अहिरवार का सिर 180 डिग्री तक झुक जाता था, कई बार महेंद्र के माता-पिता भी ऐसा सोचते थे कि महेंद्र मर जाए तो ज्यादा अच्छा रहें पर विदेश की एक महिला ने महेंद्र अहिरवार को एक नया जीवन दिया है। इस विदेशी महिला का नाम है जूली जोन्स, यह लंदन के लीवर पूल में रहती है। इस महिला ने न सिर्फ अपने खर्च से महेंद्र का इलाज कराया बल्कि कई ऑनलाइन प्लेटफार्म से महेंद्र के इलाज के लिए करीब 9 लाख रूपए से ज्यादा इक्कठा किये।

1_-daily-mail_1463774050Image Source :http://i9.dainikbhaskar.com/

हालांकि महेंद्र के माता-पिता ने भी इस बीमारी के इलाज के लिए डॉक्टरों से बात की पर महेंद्र की जान को इलाज के दौरान बहुत ज्यादा खतरा था, जिसके कारण उसकी जान जा सकती थी इसलिए कोई भी डॉक्टर यह खतरा उठाने के लिए तैयार नहीं हुआ और महेंद्र के माता-पिता को उसका जीवन बहुत ज्यादा कष्टदायी लगने लगा। इसकी वजह से वह उसके मरने की दुआ तक करने लगे थे, लेकिन लंदन की जूली जोन्स, महेंद्र के लिए फरिश्ता साबित हुई।

5_-daily-mail_1463774051Image Source :http://i9.dainikbhaskar.com/

महेंद्र का इलाज दिल्ली के अपोलो अस्पताल में हुआ और इसकी सर्जरी प्रसिद्ध सर्जन डॉ. राजगोपालन कृष्णन ने की थी। डाक्टरों ने सर्जरी को सफलतापूर्वक पूरा किया और महेंद्र की गर्दन को सीधा कर दिया है। इसके अलावा किसी दरियादिल इंसान ने महेंद्र के लिए एक इलेक्ट्रिक व्हील चेयर भी दी है, वर्तमान में महेंद्र बिलकुल नार्मल है। जानकारी के लिए यह भी बता दें की महेंद्र और जूली पर एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म भी बनी है जिसको लंदन के चैनल 5 पर दिखाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here