महज 5 वर्ष की बच्ची ने मुकम्मल किया कुरान-ए-पाक

बड़ों के मुकाबले बच्चों में बौद्धिक क्षमता कम ही होती है, पर कुछ बच्चे ऐसे भी होते हैं जिनके कार्य को देखकर बड़े-बड़े भी चकित हो जाते हैं, आज हम आपको एक ऐसी ही बच्ची के बारे में जानकारी देने जा रहें हैं। जी हां, आज हम आपको एक ऐसी बच्ची के बारे में जानकारी देने जा रहें हैं जिसने महज 5 वर्ष की उम्र में ही कुरान-ए-पाक का पाठ मुकम्मल कर लिया है।

Image Source:

जैसा की आप जानते ही होंगे कि कुरान, इस्लाम धर्म का एक पवित्र ग्रंथ है और इस्लाम के अन्य ग्रंथों से ऊंचा माना जाता है। कुरान नामक यह ग्रन्थ एक विशाल ग्रंथ है और इसका मुकम्मल पाठ करना वह भी छोटी उम्र में यह काफी मुश्किल होता है, पर “तूबा किदवई” नामक एक बच्ची ने महज 5 वर्ष की उम्र में ही कुरान का मुकम्मल पाठ कर एक मिसाल कायम की है। जानकारी के लिए हम आपको यह बता दें कि तूबा किदवई नामक यह बच्ची बाराबंकी के दरियाबाद की रहने वाली है और इस बच्ची के पिता का नाम आशीर किदवई है। इस कार्य की वजह से ही बच्ची के घर में खुशी का माहौल बना हुआ है।

To Top