_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/12/","Post":"http://wahgazab.com/this-man-sucks-the-snake-poison-out-of-the-body/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/this-man-sucks-the-snake-poison-out-of-the-body/this-man-sucks-the-snake-poison-out-of-the-body-2/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

सामने आईं अमेरिका के सबसे बड़े हिंदू मंदिर की विहंगम तस्वीरें, देख कर हैरान रह जाएंगे आप

 

वैसे अपने देश सहित विश्व के बहुत से देशों में हिंदू मंदिर बड़ी संख्या में हैं, पर आज हम आपको जिस मंदिर के बारे में जानकारी दे रहें हैं वह अमेरिका में हाल ही में बनाया गया मंदिर है, जो कि जल्द ही खुलने जा रहा है। इस मंदिर की कुछ तस्वीरें व्हाट्स अप तथा फेसबुक जैसे मेसेंजर तथा सोशल साइट्स पर जारी की जा रही हैं। देखने में ये तस्वीरें बहुत ज्यादा सुंदर हैं, इसलिए इन तस्वीरों को बहुत तेजी से शेयर भी किया जा रहा है।

image source:

आपको हम बता दें कि यह मंदिर अमेरिका के न्यू जर्सी के रॉबिंसविले नामक स्थान पर बना है जिसका निर्माण “स्वामी नारायण संप्रदाय” द्वारा कराया गया है तथा बोचासनवासी अक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्था के सहयोग से इस मंदिर का निर्माण किया जा रहा है। हम आपको यह भी बता दें कि अमेरिका के न्यू जर्सी में बहुत बड़ी संख्या में हिंदू लोग निवास करते हैं, इस बात को ध्यान में रखकर ही यहां इस मंदिर का निर्माण किया गया है। यह मंदिर 162 एकड़ में फैला हुआ है और इसकी ईमारत में प्राचीन भारतीय संस्कृति के साक्षात् दर्शन किए जा सकते हैं। इस मंदिर के अंदर में 108 खंभे तथा तीन गर्भगृह हैं।

image source:

87 फुट चौड़े तथा 134 फुट लंबे इस मंदिर के निर्माण में 1.8 करोड़ यूएस डॉलर यानि करीब 108 करोड़ रूपए का खर्च आया है। इस मंदिर में कलात्मकता के लिए 13,499 हजार पत्थरों का उपयोग हुआ है, लेकिन इन सभी पत्थरों पर नक्काशी का कार्य भारत में ही हुआ है। इसके बाद में इस मंदिर के पत्थरों को समुद्री रास्ते से अमेरिका के न्यू जर्सी पहुंचाया गया। सोशल मीडिया पर कुछ लोगों का कहना है कि यह मंदिर अगस्त माह में इस वर्ष आम लोगों के लिए पूर्णतः खुल जाएगा।

Most Popular

To Top