_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/03/","Post":"http://wahgazab.com/this-woman-gets-her-eyesight-back-after-falling-down-on-the-earth/","Page":"http://wahgazab.com/addd/","Attachment":"http://wahgazab.com/every-wish-granted-here-at-this-temple-after-hitting-a-stone/6-24/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/28118/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=154","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

इस मस्जिद की देख-रेख करती हैं महिलाएं

जैसा कि आप जानते हैं कि महिलाओं का मस्जिद में जाना मना होता है। इसलिए ज्यादातर मस्जिदों में सारा काम पुरुषों को ही सौंपा जाता है। वही मस्जिद की देख-रेख करते हैं और वही इमाम होते हैं। ऐसे में आपकी क्या प्रतिक्रिया होगी जब हम आपको यह बताएंगे कि दुनिया में एक ऐसी भी मस्जिद है जहां महिलाएं इमाम होती हैं। वही घोषणा और आज़ान देती हैं। जी हां, डेनमार्क की राजधानी कोपेनहेगन में एक ऐसी मस्जिद है जिसमें सारा काम महिलाओं के हाथों में सौंपा गया है।

1Image Source: http://media2.intoday.in/

कोपेनहेगन की इस मस्जिद में चार इमाम बनाई गई हैं, जिसमें चारों ही महिलाएं हैं। इनमें से एक हैं शेरीन, जिन्होंने इस मस्जिद की नींव को रखा है। शेरीन ने इस मस्जिद का नाम मरियम रखा है। जानकारी के अनुसार शेरीन के पिता सीरियाई मुस्लिम हैं और मां इसाई। इस मस्जिद की दिलचस्प बात ये है कि यहां शुक्रवार की नमाज में पुरुष हिस्सा नहीं ले सकते हैं। इसके अलावा मरियम मस्जिद में हर गतिविधि में पुरुष और महिलाओं का बराबर हिस्सा होगा।

2Image Source: http://images.huffingtonpost.com/

डेनमार्क में शेरीन काफी जानी मानी हस्ती मानी जाती हैं। इनका मानना है कि इस्लाम ही नहीं बल्कि इसाई, यहूदी, धर्मों के संस्थानों में भी पितृ सत्तात्मकता मौजूद है जिसे मिटाना बेहद जरूरी है। ये डेनमार्क की पहली महिला हैं जिन्होंने ये शुरूआत की है, बाकी ऐसे प्रोजेक्ट अमेरिका, कनाडा, जर्मनी जैसे देशों में देखने को मिले हैं।

Most Popular

To Top