जब अपनी शादी पर दुल्हन ने ली बुलेट पर एंट्री

0
738

भारत में हमेशा से यह परंपरा रही है कि शादी के समय दुल्हन घूंघट ओढ़े शरमाकर मंडप तक पहुंचती है। इस दौरान दुल्हन की चार-पांच सखियां या बहनें उसके अगल-बगल खड़े होकर उसे मंडप तक पहुंचाती हैं, लेकिन गुजरात के अहमदाबाद में एक दुल्हन ने मंडप में ऐसी एंट्री ली कि वहां मौजूद सारे लोगों के होश उड़ गए। सब सोच रहे होंगे कि दुल्हन धीरे-धीरे हाथों में वर माला लिए मंडप तक पहुंचेगी, लेकिन जब इस दुल्हन ने ठाठ से बुलेट पर बैठ कर मंडप में एंट्री ली, तो सब लोग दंग रह गए।

भारत-में-हमेशा-से-यह-परंपरा-रही-है-कि-शादी-के-समय-दुल्हन-घूंघट-ओढ़ेImage Source :http://images.indianexpress.com/

दुल्हन ने पूरे दबंग स्टाइल में आंखों पर काले एविएटर चढ़ा कर, रॉयल एनफील्ड बुलेट 350 पर सवार होकर एंट्री ली। उसने सज-धज कर लहंगे में बाइक चलाई और सबको भारतीय दुल्हन का बिल्कुल मॉडर्न लुक देखने को मिला।

इस अनोखी दुल्हन का नाम आयशा उपाध्याय है। आयशा 26 साल की हैं और पेशे से कंप्यूटर साइंस की प्रोफेसर हैं। जिस बाइक पर सवार होकर वह मंडप तक पहुंची थी, वह बाइक उनके भाई ने उन्हें रक्षाबंधन पर गिफ्ट की थी। आयशा जब 13 साल की थीं, तभी से बाइक चला रही हैं। बाइक चलाना उनका पैशन है।

आयशा ने बताया कि अभी तक वह अपने अंकल की बाइक से कई शानदार दौरे कर चुकी हैं। एक बार वह अपने बाइक लवर्स दोस्तों के साथ बाइक से गोवा गई थीं। आयशा ने बताया कि वह बाइक से ओम बन्ना मंदिर भी जा चुकी हैं। यह मंदिर बुलेट बाबा मंदिर के नाम से काफी मशहूर है।

आयशा-ने-बताया-कि-अभी-तक-वह-अपने-अंकल-की-बाइक-सेImage Source :https://i.ytimg.com/vi/

आयशा के पति लौकिक व्यास पेशे से एक बिज़नेस मैन हैं और कैनेडा में रहते हैं। शादी के बाद आयशा का प्लैन है कि वह कैनेडा की सड़कों पर भी बाइक चलाएंगी। हालांकि उनके पति को बाइक चलानी नहीं आती। उन्होंने बताया कि वह बाइक के पीछे बैठने वालों में से हैं। उन्होंने कहा कि में यह जिम्मेदारी अपनी पत्नी को देकर खुश हूं।

उन्होंने शादी के फंक्शन में आयशा के द्वारा बाइक पर सवार होकर आने को अनूठा आइडिया बताया। उन्होंने कहा बाइक चलाना आयशा का शौक है, इसलिए उन्होंने अपनी पत्नी के इस आइडिया को सपोर्ट किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here