_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/02/","Post":"http://wahgazab.com/you-wont-able-to-control-your-laughter-after-seeing-these-sign-boards-on-the-road/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/?attachment_id=45713","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/38edcdf172ca4efbca56add1f895924c/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

अनोखा धर्म- ये लोग खुद को मानते हैं “भगवान की संतान” बच्चों से जबरन बनाते हैं “यौन संबंध”

यौन संबंध

 

आपने बहुत से धर्मों के बारे में सुना होगा तथा उनके अनुयायी भी देखें होंगे, पर आपने कभी ऐसा धर्म नहीं देखा होगा होगा जिसमें बच्चों के साथ जबरन यौन संबंध बनाने को धार्मिकता के साथ जोड़ा जाता है। आज हम आपको एक ऐसे ही धर्म के बारे में यहां बता रहें हैं। आप इस धर्म की मान्यताएं जानकर दंग रह जायेंगे। आप सोचने पर मजबूर हो जायेंगे कि आखिर ईश्वर ने इस प्रकार की आज्ञाएं आखिर कौन से धर्मग्रंथ में दी हैं। आइये अब आपको विस्तार से बताते हैं इस अनोखे धर्म के बारे में।

ब्रैंडेट बर्ग ने शुरू किया था यह धर्म

यौन संबंधImage Source: 

सबसे पहले आपको बता दें कि इस धर्म का नाम “children of god” है। इसकी शुरुआत ब्रैंडेट बर्ग नामक एक व्यक्ति के 1968 में की थी। इस अनोखे धर्म के नाम का हिंदी अनुवाद “ईश्वरीय संतान” बनता है। इस प्रकार से देखने में तो यह बहुत ज्यादा सात्विक लगता है, मगर असल में ऐसा है नहीं। आज हम आपको इस धर्म के उस पहलू से रूबरू करा रहें हैं जिसको जानकर आप भी शर्मसार हो जाएंगे।

छोटे बच्चों का यौन उत्पीड़न को मानते है पवित्र कार्य

यौन संबंधImage Source: 

इस अनोखे धर्म की अपनी मान्यताएं हैं। जिनमें से एक है छोटे बच्चों के साथ “यौन संबंध” बनाना। इस धर्म के सभी लोग इस कार्य को करते हैं और जो ऐसा नहीं करता उसको अपवित्र घोषित कर दिया जाता है। मतलब ऐसा कार्य करना इस धर्म में बहुत पवित्र माना जाता है। इस धर्म के लोगों की मान्यता है कि यह कार्य करने से ईश्वर खुश होते हैं।

इस प्रकार शुरू हुआ था यह धर्म

यौन संबंधImage Source: 

इस धर्म को प्रारंभ करने वाले ब्रैंडेट बर्ग के विचार चर्च से मेल नहीं खाते थे इसलिए वे चर्च का विरोध करते थे। इसके चलते उनको 1968 में चर्च से बाहर कर दिया गया। चर्च से बाहर होने के बाद ब्रैंडेट बर्ग ने एक कॉफी शॉप खोली और अपने तथाकथित ज्ञान को वहीं से बांटना शुरू किया। ब्रैंडेट की कॉफी शॉप पर आने वाले कुछ लोग उसके जाल में फंसते चले गए और कुछ ही समय में यह लोगों का बड़ा जन समूह बन गया। इस प्रकार से children of god धर्म की स्थापना हुई। आपको बता दें कि शुरुआत में इस धर्म का नाम “टीन्स ऑफ क्राइस्ट” रखा गया था पर बाद में अधिक लोगों को आकर्षित करने के लिए इसका नाम बदल कर children of god कर दिया गया था।

लड़कियों द्वारा रिझाया जाता है पुरुषों को

यौन संबंधImage Source: 

इस धर्म की एक खास रिवायत है “फ्लर्टी फिशिंग”, इसको इस धर्म में रहने वाली हर लड़की को मानना ही होता है। इसके तहत लड़कियां अधिक से अधिक पुरुषों को रिझाती हैं तथा इस धर्म में प्रवेश कराती हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि रोज मैकेगोवन और जोआक्विन फीनिक्स जैसे हॉलीवुड स्टार भी इस धर्म के सदस्य रह चुके हैं। इस प्रकार से यह धर्म न सिर्फ छोटे बच्चों के साथ यौन संबंध बना कर उनके उत्पीड़न को बलवान बना रहा है बल्कि अन्य लोगों को फसाने के लिए लड़कियों का इस्तेमाल भी किया जाता है।

Most Popular

To Top