_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/03/","Post":"http://wahgazab.com/peope-get-trained-for-suicide-and-they-sleep-in-the-graves-before-death/","Page":"http://wahgazab.com/addd/","Attachment":"http://wahgazab.com/every-wish-granted-here-at-this-temple-after-hitting-a-stone/6-24/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/28118/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=154","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

दुनिया के खात्मे की सही भविष्यवाणी करती है भारत की यह रहस्यमय गुफा

भारत दुनिया का एक ऐसा देश है जो की रहस्य और रोमांच से भरा हुआ है। यहां पर आप रोमांच और रहस्य का समावेश एक साथ अनुभव कर सकते हैं। यहां पर आपको हजारों साल पहले के अवशेष आज भी मिल जाते हैं जो की उस समय की दुनिया का सही चित्र आपके सामने रखते हैं। आज हम आपको इसी क्रम में ऐसी गुफा के बारे में बता रहें हैं जो की दुनिया के खात्मे की भविष्यवाणी के रूप में देखी जाती है। आइये जानते हैं इस गुफा के बारे में।

udayagiri-and-khandagiri-cavescavesbhubaneswarodisha-india2Image Source:

पाताल भुवनेश्वर गुफा –
यदि आप कभी उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जाएंगे तो आपको “पाताल भुवनेश्वर गुफा” जरूर जाना चाहिए, यही वह गुफा है जो की इस दुनिया के अंत की भविष्यवाणी के रूप में जानी जाती है। इस गुफा से यहां के लोगों की काफी आस्था जुड़ी है क्योंकि ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव ने गणेश जी का सिर इसी स्थान पर काटा था।

udayagiri-and-khandagiri-cavescavesbhubaneswarodisha-india1Image Source:

बहुत से लोग इस गुफा में आज भी पूजन आदि करने आते हैं। अल्मोड़ा से शेराघाट की ओर करीब 160 किमी चलने पर गंगोलीहाट नामक कस्बे में यह गुफा स्थित है। इस गुफा में चारों युगो के रूप में चार पत्थर स्थित है, इनमें से ही एक पत्थर कलयुग का भी माना जाता है। कलयुग वाला यह पत्थर वर्तमान में धीरे-धीरे ऊपर उठ रहा है और कहा जाता है कि जिस समय यह पत्थर इतना बड़ा हो जायेगा की छत से टकराने लगेगा तब इस दुनिया का पूरी तरह अंत हो जाएगा और साथ ही कलयुग का भी। इस गुफा में अन्य देवताओं की भी प्रतिमाएं हैं।

Most Popular

To Top