जब शव यात्रा में सैकड़ों इंसानों के बीच कुत्ते भी हुए शामिल…

मानवता की पहचान कराता यह दर्दनाक हादसा उस समय देखने को मिला जब एक कुत्ते की मौत हो जानें के बाद इंसानों के निकलते आंसू के बीच जानवरों का दिल भी पसीजने लगा। यूं तो जानवर के साथ इंसान का रिश्ता उस समय परिवार के सदस्य के समान हो जाता है जब हम उसे पालते है या फिर हमारे आसपास रहने के कारण वे सदा हमारी नजरों के आस-पास रहता है। जिससे उसके प्रति हमारे दिल में एक अलग सी जगह बन जाती है। इसी तरह से उज्जैन में भी यह नजारा देखने को मिला। जहां पर कालू नाम का कुत्ता 27 सालों से नामदार पुरा इलाके में रहकर लोगों के बीच की शान बना करता था। सबके दिल में उसके प्रति एक अलग ही जगह बनी हुई थी, वहां के लोग उसे काफी प्यार करते हुए अपने घर का सदस्य जैसा ही मानते थे। लेकिन एक दिन उसकी अचानक हुई मौत ने सभी को हिला कर रख दिया। पूरे नामदार पुरा इलाके में शोक का माहौल हो गया। एक परिवार के सदस्य माने जानें वाले कालू की शवयात्रा को वहां के लोगों ने काफी अच्छी तरह से निकालने का फैसला लिया। इसके लिए उन्होंने एक शवयात्रा निकाली जिसमें फूलों की अर्थी को सजाकर कालू नाम के उस कुत्ते को उस पर रखा गया।

सबसे चकित बात तो यह है कि जिस समय यह शवयात्रा निकाली जा रही थी। उस समय इंसाने तो इंसान कुत्ते भी इस शोक में पूरी तरह से हिस्सा ले उस शव के आगे पीछे चल रहे थे। जिसे देख सभी के दिल में एक करूणा की लहर फैल गई।

To Top