_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/05/","Post":"http://wahgazab.com/look-at-the-video-how-a-child-falling-from-the-building-was-saved-by-people/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/the-gifts-received-in-the-royal-wedding-are-being-sold-online/jarry-2/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/1cad649c94e2db90e72cf2090a3860fa/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

तोते का अंतिम संस्कार कर चर्चा में आया यह व्यक्ति, जानें इसके बारे में

अंतिम संस्कार

हिंदू धर्म में किसी भी शख्स की मौत के बाद उसका अंतिम संस्कार किया जाता, पर हालही में एक तोते का अंतिम संस्कार करने का मामला सामने आया है। आपको शायद यह खबर अटपटी लग रही होगी, यह खबर पुरी तरह से सच है और हालही की है। यह घटना उत्तर प्रदेश के अमरोहा में घटित हुई है। यहां पर एक व्यक्ति ने अपने तोते की मृत्यु पर उसका हिंदू रीति रिवाज से अंतिम संस्कार किया तथा लोगों को तेहरवी भोज भी कराया। लोगों को आमंत्रण देने के लिए इस व्यक्ति ने बकायदा कार्ड भी छपवाए थे। आइये अब आपको विस्तार से बताते हैं इस खबर के बारे में।

अंतिम संस्कारImage source:

अपने तोते का अंतिम संस्कार कर चर्चा में आये इस व्यक्ति का नाम पंकज कुमार मित्तल है। ये अमरोहा के निवासी है तथा एक प्राइमरी अध्यापक है। इन्होने एक तोता पाला हुआ था, जिसकी हालही में मौत हो गई थी। तोते से अपने लगाव के चलते ही पंकज मित्तल ने तोते का हिंदू रीति से अंतिम संस्कार किया तथा अपने पड़ोसियों और रिश्तेदारों को बुलाकर तेहरवी भोज भी कराया।  पंडित ने आकर पंकज कुमार के घर में यज्ञ भी किया। कुल मिलाकर तोते की मृत्यु पर वे सभी कार्य किये गए जो एक व्यक्ति की मौत पर किये जाते हैं।

अंतिम संस्कारImage source:

पंकज मित्तल इस बारे में बताते हुए कहते हैं कि “5 वर्ष पहले एक बार वे छत पर टहल रहें थे। तब यह तोता एक चील के पंजे से छूट कर उनकी छत पर आ गिरा था। तोता सही से खड़ा भी नहीं हो पा रहा था क्योंकि वह घायल हो चुका था इसलिए उन्होंने उसकी मरहम पट्टी की तथा कुछ दिन में जब वह सही हो गया तो उनके ही घर पर रहने लगा। इस प्रकार यह तोता घर का सदस्य बन गया था।”

To Top