_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/04/","Post":"http://wahgazab.com/this-man-surviving-for-last-25-years-eating-tree-leaves/","Page":"http://wahgazab.com/addd/","Attachment":"http://wahgazab.com/veteren-actor-vinod-khanna-dies-of-cancer/vinod_khanna_died1/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/28118/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=154","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

इस टुक टुक पर बैठकर पूरा किया भारत से लंदन तक का सफर

देश से विदेश में जाने की बात करें तो हर कोई इस सफर को पूरा करने के लिए पैसा खर्च करके फ्लाइट से ही जाना ज्यादा पसंद करते हैं। क्योंकि यह कुछ घंटों में हमें अपनी मंजिल तक पहुंचा देता है। पर क्या आप जानते है कि लंदन तक का सफर बिना पैसा खर्च किए भी तय किया जा सकता है। जी हां इसका हल ढूंढ निकाला है नवीन रबेल्ली नाम के इंजीनियर ने जिसनें मुफ्त में लंदन पहुंचने का एक अलग तरीका निकाल कर एक गजब सी मिसाल कायम की है। इस इंजीनियर ने अपनी प्रतिभा से बनाया सौर ऊर्जा से चलने वाला एक ऑटो रिक्शा, जिसमें बैठकर उसनें 10000 कि.मी का यह सफर पूरा कर दिखाया। नवीन की इस यात्रा का उद्देश्य एशिया के अलावा दूसरे देशों में भी अक्षय ऊर्जा का उपयोग सवारी वाहनों में कर इसका प्रचार-प्रसार करना है।

engineer-travelled-10000-kms-on-tuk-tuk-from-india-to-london1Image Source:

35 वर्षीय नवीन नें अपनी विदेश यात्रा इसी टुक टुक के दम पर पूरी की। हमारे भारत में कई जगहों पर इस ऑटोरिक्शा को टुक टुक के नाम से ही जाना जाता है। रबेल्ली अपने ऑटों से सोमवार को ब्रिटेन पहुंचे। इसी दौरान कुछ दिन पूर्व फ्रांस देश में उनके समान की चोरी हो गई थी। जिससे उन्हें कुछ समस्याओं का भी सामना करना पड़ा। क्योंकि समान के साथ उनका पासपोर्ट और पर्स था अपने मकसद पर कामयाब हुए इंजीनियर नवीन ने अपने सौर ऊर्जा से चलने वाले वाहन का नाम तेजस रखा है।

Most Popular

To Top