_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/02/","Post":"http://wahgazab.com/goddess-kali-used-to-show-up-before-this-devotee/","Page":"http://wahgazab.com/addd/","Attachment":"http://wahgazab.com/kneading-dough-with-legs-at-kake-da-hotel-in-delhi/attachment/31/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/28118/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=154","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

मंदिर में देवी के दर्शन के लिए रोज आता है यह चीतल

मां के दरबार में भक्त अपनी हाजरी देनें के लिए लाखों की संख्या में पहुंचते है। हर इंसान की श्रद्धा भगवान के साथ जुड़ी होती है, लेकिन इंसान के साथ-साथ यदि हम जानवरों की श्रध्दा की बात करें, तो ये थोड़ा अटपटा सा लगेगा लेकिन जानवरों में भी भगवानों के प्रति अपार श्रद्धा देखी जा सकती है, यह अदुभुत नजारा आपको दंतेवाड़ा के दंतेश्वरी मंदिर में देखने को मिलेगा। इस मंदिर में भगवान और भक्तों के साथ अनेक जीव-जंतुओं का भी अनूठा संगम देखने को मिलता है। खासतौर पर जब मां की आरती की घंटी उस जगह के हर कोनों में गूजने लगती है, तब मां के दर्शन के लिए तुंरत ही पहुंच जाता है एक चीतल। मां दंतेश्वरी के चरणों में जहां हजारों भक्त दर्शन के लिए पहुंचते है, वहीं उन्ही भक्तो के साथ यहां मां के चरणों में अनेक जीव भी हाजिरी लगाने पहुंच जाते हैं। इस अद्भुत नजारे को देख हर किसी की आस्था इस मंदिर के प्रति और अधिक बढ़ जाती है। यह चीतल रोज सुबह प्रतिदिन बेझिझक मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश करता है और मां की पूरी आरती सुनता है। आरती खत्म होने के बाद यह चीतल मां का प्रसाद लेकर वापस जंगल की ओर लौट जाता है। आप भी इस चीतल को वीडियो में देख सकते हैं।

 

Video Source:

Most Popular

To Top