_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/06/","Post":"http://wahgazab.com/%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%87%e0%a4%82%e0%a4%9c%e0%a5%80%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%b0-%e0%a4%aa%e0%a5%87%e0%a4%a1%e0%a4%bc-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%ac/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%87%e0%a4%82%e0%a4%9c%e0%a5%80%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%b0-%e0%a4%aa%e0%a5%87%e0%a4%a1%e0%a4%bc-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%ac/%e0%a4%87%e0%a4%b8-%e0%a4%98%e0%a4%b0-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%ac%e0%a4%a6%e0%a5%8c%e0%a4%b2%e0%a4%a4-%e0%a4%ac%e0%a4%a8%e0%a5%87-%e0%a4%b0%e0%a4%bf%e0%a4%95%e0%a5%89%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%a1/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/705a904e083c70cef81a3db17f0d9064/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

चमत्कारी प्रतिमा – चार बार चोरी हो चुकी है यह देव प्रतिमा, हर बार मंदिर में वापस रख जाते हैं चोर

 

देव प्रतिमा तो आपने बहुत सी देखी ही होंगी, पर क्या आपने कभी कोई ऐसी प्रतिमा देखी है जिसको चोर चोरी करने के बाद में खुद ही मंदिर में रख जाते हों? यदि नहीं, तो आज हम आपको एक ऐसी ही देव प्रतिमा के बारे में जानकारी दे रहें हैं। यह देव प्रतिमा 12 इंच की है जिसका धड़ नहीं है अर्थात् यह मात्र एक सिर का हिस्सा ही है, इसलिए अभी तक यह नहीं पता लग सका है कि यह किस देवता की मूर्ति का है, पर ग्रामीण लोग इस प्रतिमा को भगवान विष्णु के अवतार “वामन देवता” की प्रतिमा मानते हैं।

Image Source:

आपको हम बता दें कि जिला बीजापुर के केतुलनार गांव के पास बहने वाली “मरी नदी” से 16 प्रतिमाएं निकली थी, जिनको “गुड़ी मंदिर” में लोगों द्वारा रखा गया है। इन प्रतिमाओं में से यह एक वामन देव की प्रतिमा भी है, जिसका धड़ नहीं है। यहां के स्थानीय लोगों का कहना है कि पिछले 10 वर्षों में मंदिर से 4 बार यह वामन देव की प्रतिमा चोरों द्वारा चुराई गई है, पर जितनी भी बार चोर इसको ले जाते हैं वह 2 या 3 दिन बाद ही इसको मंदिर के बाहर छोड़ जाते हैं। लोगों का मानना है कि इस प्रतिमा को चुराने वालों के साथ कोई न कोई अनिष्ट घटना घट जाती है, इसलिए वह इस प्रतिमा को वापस मंदिर में ही यहां छोड़ जाते हैं।

To Top