_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/05/","Post":"http://wahgazab.com/female-lover-protests-in-front-of-the-groom-car-and-gets-married-in-flimy-style/","Page":"http://wahgazab.com/addd/","Attachment":"http://wahgazab.com/female-lover-protests-in-front-of-the-groom-car-and-gets-married-in-flimy-style/8-18/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/28118/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=154","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

मजदूर का बेटा अपनी मेहनत के दम पर बना गूगल की शान

गरीबी में जहां लोगों को खाने तक के लिए कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता है वहीं गरीबी ही लोगों को कठिन हालातों से लड़ने का हौंसला भी सिखाती है। यदि किसी के मन में कुछ करने की ललक हो तो गरीबी में भी इंसान मेहनत कर अपनी मंजिल को हासिल कर ही लेता है और ऐसा ही हुआ 26 साल के राम चंद्रा के साथ भी, आज राम चंद्रा ने अपनी लगन और हौसले की बदौलत अपनी मंजिल को पाने में सफलता प्राप्त कर ली है। कभी अपनी पढ़ई को पूरा करने के लिए उनके पास पैसे नहीं थे, लेकिन आज वह अमेरिका में गूगल के ऑफिस में अपनी प्रतिभा का डंका बजा रहा है।

ramchandra1Image Source:

गूगल में सॉफ्टवेयर इंजीनियर राम चंद्रा भले ही आज नामी कंपनी में कार्य कर देश का नाम रोशन कर रहें हों लेकिन वो अपने मजदूर पिता तेजाराम की मेहनत को कभी नहीं भूल पाएंगे, जिनके सहारे वो इस पद तक पहुंचे है। राम के पिता तेजाराम राजस्थान में रहते हुए मजदूरी का काम करते हैं। बेटे के बार-बार कहने पर भी उन्होने अपने काम को नहीं छोड़ा है।

राम नें हिन्दी मीडियम स्कूल से अपनी पढ़ाई पूरी करके 2009 में आईआईटी रुड़की में प्रवेश लिया। उनकी पास काउंसलिंग फीस ना होने के कारण दूसरे लोगों नें उनकी मदद की। इसके बाद दूसरे ईयर में जाकर राम को एजुकेशन लोन मिल पाया। वहीं राम चंद्रा लगातार मेहनत करते रहे और अपने मुकाम पर पहुंचकर अब वो गरीबों की मदद करने के लिए पैसे जुटा रहें हैं।

 

Most Popular

To Top