_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/01/","Post":"http://wahgazab.com/know-about-the-man-who-divided-a-mountain-into-two-for-the-sake-of-his-childrens-education/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/know-about-the-man-who-divided-a-mountain-into-two-for-the-sake-of-his-childrens-education/image-42/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

श्री महालक्ष्मी जुड़ीवाली मंदिर- यहां हाथों हाथ शादी के बंधन में बंध जाते हैं कुवारें व्यक्ति

श्री महालक्ष्मी जुड़ीवाली मंदिर

 

अपने देश में ऐसे बहुत से मंदिर हैं जो अपनी किसी न किसी विशेषता के कारण प्रसिद्ध हैं। आज हम आपको एक ऐसे ही मंदिर के बारे में बता रहें हैं जहां कुआरें लड़के लड़कियों का विवाह तुरंत हो जाता है। आपको बता दें कि यह मंदिर उत्तर प्रदेश की धार्मिक नगरी मथुरा में है। प्राचीन समय के इस मंदिर का नाम “श्री महालक्ष्मी जुड़ीवाली मंदिर” है जो देवी लक्ष्मी को समर्पित है।

जलेबी के जोड़े से होता है विवाह संपन्न

श्री महालक्ष्मी जुड़ीवाली मंदिरImage Source: 

श्री महालक्ष्मी जुड़ीवाली मंदिर के महंत अशोक शर्मा बताते हैं कि इस मंदिर की यह प्राचीन मान्यता रही है कि यहां पर यदि कुवारें युवक युवतियाँ पूजन करते हैं तो उनका विवाह शीघ्र संपन्न हो जाता है। पूजन सामग्री के सामान के अलावा यहां पर 2 केले तथा जलेबी का जोड़ा पूजन में उपयोग किया जाता है।

देवी लक्ष्मी स्वयं हुई थी प्रकट

श्री महालक्ष्मी जुड़ीवाली मंदिरImage Source: 

श्री महालक्ष्मी जुड़ीवाली मंदिर के मुख्य पुजारी अशोक शर्मा का कहना है कि “इस मंदिर का निर्मित होना बहुत ही अनोखा रहा है असल में काफी समय पहले मथुरा नगर में रघुनाथ दास रहते थे जो धार्मिक प्रवृति के थे। उनको सपने में देवी ने दर्शन देकर बताया था कु मेरी प्रतिमा यमुना नदी के तट पर धरती के नीचे आमुक स्थान पर है। उसको खोद कर बाहर निकाल लीजिये। बाद में जब रघुनाथ दास जी ने बताए गए स्थान पर खुदाई कराई तो देवी लक्ष्मी की यह दिव्य प्रतिमा उस स्थान से निकली थी। कुछ समय पश्चात रघुनाथ दास जी को दोबारा स्वप्न में दर्शन देकर देवी लक्ष्मी ने यह बताया कि वह उस स्थान पर ही मंदिर का निर्माण कराये जिस स्थान से यह प्रतिमा निकली है।” इस प्रकार से इस मंदिर का निर्माण हुआ। आज यहां बहुत से भक्त आते हैं और देवी मां के दर्शन कर लाभ पाते हैं।

Most Popular

To Top