_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/04/","Post":"http://wahgazab.com/people-got-confused-when-two-girls-conned-everyone-to-marry-each-other/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/these-marvelous-airports-of-the-world-beats-even-the-most-fancy-of-the-restaurants/hotel-cover/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/a58684c87aed349e5269bd367bca0a1a/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

सना अमीन शेख के सिन्दूर लगाने पर हुए बवाल पर एक्ट्रेस का करारा जवाब

हमारे भारत में औरतें सीरियल्स की काफी बड़ी फैन होती हैं, किसी भी कारण वह अपने मनचाहे सीरियल को मिस नहीं करती हैं। लेकिन अगर सीरियल के कलाकारों के किरदार को लेकर ऐसे उंगलियां उठाई जाएं, तो वह किस तरह आपका मनोरंजन कर पाएंगे। जी हां, दरअसल एक मशहूर चैनल के एक सीरियल कृष्णदासी में अहम भूमिका निभा रहीं अभिनेत्री सना अमीन शेख के सिंदूर लगाने पर आजकल काफी बवाल किया जा रहा है।

Sana-Amin-Sheikh3Image Source:

दरअसल अमीन शेख ने शूट के बाद भी माथे पर सिंदूर लगाया हुआ था, और फोटोज को सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया। इन तस्वीरों पर काफी नकारात्मक कमेंट्स आए, एक यूजर ने यह तक लिख डाला कि सना सिंदूर और मंगलसूत्र पहनकर इस्लाम की बदनामी कर रही हैं। जिसके बाद सना ने अपना सब्र् का बांध तोड़ा और जवाब दिया कि “ लोग मेरी आलोचना कर रहे हैं कि शूटिंग खत्म होने के बाद भी मैंने क्यों सिंदूर लगाया हुआ है। मैं पूछती हूं कि अगर मैं अपनी पसंद से भी सिंदूर लगाती हूं तो क्या इससे क्या मेरा मुसलमान होना खतरे में पड़ गया, मेरी मां और नानी मुसलमान होने के बावजूद मंसगलसूत्र पहनती हैं। तो क्या उससे वो कम मुसलमान हो गईं।“

Sana-Amin-Sheikh2Image Source:

सना ने लिखा, “अपने आपको पक्का मुसलमान कहने वाले मेरी आलोचना कर रहे हैं, मुझे गालियां दे रहे हैं, ऐसे लोग फेसबुक और इंस्टाग्राम पर क्यों मौजूद हैं। क्या ये मनोरंजन नहीं है। ये लोग टीवी पर मेरा शो क्यों देखते हैं। क्या ये सब हराम नहीं है। क्या सिंदूर लगाने की वजह से अल्लाह मुझे दोज़ख में भेज देंगे और मुझे फेसबुक और इंस्टाग्राम पर हिदायत देने वाले लोगों को अल्लाह जन्नत में भेजेंगे’’ ।

Sana-Amin-Sheikh1Image Source:

इस प्रकरण या कह सकते हैं कि इस प्रकार की और भी घटनाओं से हम क्या निष्कर्ष निकालें ? ये कि, हम कला और मनोरंजन को उसके सच्चे मायनों में देखना, सुनना और समझना भूल गए हैं या धार्मिक मतभेदों और मजहबी रंजिशों ने ऐसा स्वरुप ले लिया है कि हम कला की परख और इंसानियत के तक़ाज़ों पर गौर करना ही नहीं चाहते। वजह जो भी हो परंतु इसके दूरगामी परिणाम हमारे समाज को कहाँ ले जाकर छोड़ेंगे, इसका मूल्यांकन हमें स्वयं करना होगा।

To Top