_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/04/","Post":"http://wahgazab.com/why-does-india-media-want-to-spread-communalism-in-society/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/jeep/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/4637f7a6561ca2676cbe41cadf6c6461/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

आई जी माता मंदिर में ज्योत से टपकता है केसर, आंखों पर लगाने से होते हैं रोग दूर

आई जी माता मंदिर

 

हमारे देश में मां दुर्गा के बहुत से मंदिर स्थित हैं पर कुछ मंदिर सच में चमत्कारी हैं जिन्हे देख लोग भी दंग रह जाते है। आज हम आपको एक ऐसे ही मंदिर के बारे में यहां जानकारी दे रहें हैं। इस चमत्कारी मंदिर का नाम “आई जी माता मंदिर” है। यह मंदिर मध्य प्रदेश के नीमच जिले के मनासा नामक स्थान पर स्थित है। इस स्थान पर बड़ी संख्या में लोग दर्शन करने के लिए आते हैं और नवरात्रों में इस स्थान पर भक्तों का मेला लगा रहता है। इस स्थान पर एक दीपक पिछले 550 वर्ष से लगातार जलता आ रहा है और उससे केसर टपकता रहता है। मान्यता है कि इस दीपक से टपकने वाले केसर को आंखों पर लगाने से आंखों के सभी रोग दूर हो जाते हैं।

आई जी माता मंदिरImage Source:

इस मंदिर के मुख्य पुजारी भेरूलाल शर्मा ने इस मंदिर के विषय में जानकारी देते हुए बताया कि “इस मंदिर का निर्माण राजस्थान के जोधपुर स्थित बिलाड़ा नामक क्षेत्र के निवासी हरिसिंह दीवान और उनके परिजन ने रामपुरा स्टेट में मिली जागीरदारी से कराया था।”, ऐसा माना जाता है कि उस समय देवी मां ने स्वयं आकर इस स्थान पर ज्योत जलाई थी। उस समय से आज तक 550 वर्ष गुजर चुके हैं और आज भी इस स्थान पर देसी घी से माँ की अखंड ज्योत जलती रहती है। आई जी माता मंदिर की कमेटी के आनंद श्रीवास्तव ने इस मंदिर के बारे में बताते हुए कहा कि इस मंदिर का एरिया 20 हजार स्क्वेयर क्षेत्रफल का है तथा मंदिर का मुख्य परिसर ढाई हजार स्क्वेय मीटर में निर्मित है। जिन श्रद्धालुओं की मन्नत यहां पूरी होती है वे आईजी माता मंदिर में चढ़ावा चढ़ाते हैं तथा भंडारा आदि कराते हैं।” इस मंदिर के सभी कार्य गांव के लोगों द्वारा किये जाते हैं और नवरात्र के दिनों में इस आई जी माता मंदिर में सत्संग भी चलता है।

To Top