_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/04/","Post":"http://wahgazab.com/watch-the-funny-reporting-by-this-news-reporter-you-wont-be-able-to-control-laughter/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/watch-the-funny-reporting-by-this-news-reporter-you-wont-be-able-to-control-laughter/dff/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/5f170f5a9cf84732c990a972396c0523/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

किल्लत – पानी के लिए यहां लोग दे रहें हैं अपनी बकरियां, जानें इस बारे में

 

पानी जीवन के लिए बहुत जरूरी है और इसका जीवंत प्रमाण है यह इलाका जहां लोग पानी के बदले अपनी बकरियां दे रहें हैं। जी हां, जल यानि पानी के लिए लोग अपनी बकरियों को दे रहें हैं, ताकि उनको पानी नसीब हो, पर आपने सोचा कि आखिर बकरियां ही क्यों। असल में बात यह है कि इस इलाके के लोगों के पास में इतना पैसा नहीं है कि वह पानी को खरीद सके इसलिए वह पैसे की इस कमी को बकरियों के बदले पूरी कर रहें हैं, आइए अब आपको बताते हैं जगह के बारे में जहां पर यह सब चल रहा है।

Image Source:

आपको हम बता दें कि यह खबर अपने देश की नहीं है बल्कि यह “पाकिस्तान” के सिंध क्षेत्र की खबर है। यहां पर स्थित गांवों के लोग वर्तमान में पानी की किल्लत से बहुत परेशान है और साथ में आर्थिक रूप से भी पिछड़े हुए हैं, उनके पास इतने पैसे भी नहीं है कि वह पानी का पम्प आदि सामान खरीद सकें। इन गांवों में रहने वाले लोगों की परेशानी को समझा “फरयाल सलाहुद्दीन” नामक एक महिला ने जो कि एक ऊर्जा कंसल्टेंट भी हैं। उन्होंने इन लोगों के जीवन को बदलने का कार्य शुरू कर दिया। आपको बता दें कि वर्तमान में फरयाल इन गांव के लोगों को पानी के पम्प दे रही हैं और पैसे के बदले इनसे बकरियां ले रही हैं, आखिर बकरियां ही क्यों, इसका जवाब देते हुए फरयाल कहती हैं कि पैसे गांव के लोगों के पास में हैं ही नहीं, सिर्फ बकरियां हैं इसलिए वे बकरियां दे सकते हैं। फरयाल सलाहुद्दीन ने डीजल इंजन की जगह सोलर पम्पों को लगवाया है ताकि गांव के लोगों को ज्यादा आर्थिक बोझ न पड़े सोलर पम्पों को लगवाने के लिए फरयाल प्रत्येक व्यक्ति से 80 बकरियों की मांग कर रही हैं पर गांव के लोग महज 20 से 25 बकरियां देने की बात कर रहें हैं। खैर, जो भी है अब पानी की इस कीमत को यदि अपने भारत के लोग भी समझ जाएं, तो ज्यादा बेहतर होगा।

To Top