_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/04/","Post":"http://wahgazab.com/will-you-eat-or-decorate-this-banana-worth-87000/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/will-you-eat-or-decorate-this-banana-worth-87000/banana-cover/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/73fc61f08fdcf71b6cf8325880872cf3/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

4 वर्ष पहले हुई थी मां-बाप की मृत्यु, अब पैदा हुआ है उनका यह बच्चा

मां-बाप

क्या मां-बाप की मौत के सालों बाद भी कोई बच्चा पैदा हो सकता है। शायद नही, लेकिन हाल ही में एक ऐसा ही चमत्कार देखने को मिला है। जी हां, असल में बात यह है कि मां-बाप की मृत्यु चार वर्ष पहले हो चुकी थी, पर उनके इस बच्चे ने हाल ही में जन्म लिया है। इस घटना के कारण ही लोग हैरान है तथा इसको चमत्कार के रूप में देख रहें हैं। इस घटना के बारे में जिस किसी ने भी सुना वह हैरान रह गया। आइये अब आपको विस्तार से बताते हैं इस पूरी घटना के बारे में।

मां-बापImage source:

सबसे पहले हम आपको यह बता दें कि यह मामला चीन का है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो बच्चे के माता पिता की मौत चार वर्ष पहले 2013 में रोड एक्सीडेंट में हो गई थी। जिस समय रोड एक्सीडेंट हुआ था। उस समय दंपत्ति का प्रजनन संबंधी इलाज चल रहा था। जिसके चलते दंपत्ति ने असल में अपने भ्रूण को निकलवा कर एक अस्पताल में सुरक्षित रखवा डाला था क्योकि दंपत्ति चाहते थे कि उनको यह बच्चा सेरोगेसी द्वारा मिले पर चीन के कानून ने उनको इसकी आज्ञा नहीं दी थी।

मां-बापImage source:

दंपत्ति जब एक्सीडेंट में मर गए तो बच्चे के दादा दादी तथा नाना नानी ने बच्चे के भ्रूण के लिए कोर्ट में लंबी लड़ाई लड़ी। बाद में कोर्ट ने उनको भ्रूण को ले जाने की आज्ञा दे दी। अस्पताल द्वारा बच्चे के दादा दादी को भ्रूण सौंप दिया गया लेकिन सेरोगेसी की प्रक्रिया में मुश्किल आई। असल में चीन में सेरोगेसी की तकनीक बैन है।

मां-बापImage source:

काफी खोजबिन के बाद इन लोगों को आओस में एक कॉमर्शियल सरोगेसी एजेंसी का पता लगा। लेकिन वहां भी इनके सामने नई समस्या आ गई। असल में भ्रूण को लाओस ले जानें के लिए कोई भी एयरलाइन तैयार नहीं थी। बाद में सड़क के रास्ते ही भ्रूण को लाओस ले जाया गया। इसके बाद एक महिला के गर्भ में बच्चे के भ्रूण को प्रत्यारोपित किया गया। सभी कुछ सही रहा तथा दिसंबर 2017 को बच्चे का जन्म हो गया। इस बच्चे का नाम टिएटियन रखा गया। चीन के मीडिया ने बताया कि 9 दिसंबर 2017 को बच्चे का जन्म हुआ था। इस बच्चे को बचाने के लिए उसके दादा दादी ने कितनी मेहनत की थी इस बारे में आप शायद अंदाजा ही लगा सकते हैं।

To Top