_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/05/","Post":"http://wahgazab.com/the-daughter-in-law-of-royal-family-meghan-cannot-give-autograph-and-purchase-nail-polish/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/dog-puppy-bought-home-turned-out-as-a-wild-animal/bear-cover/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/e90a5e0b60a6b68d662a8db32927ffdd/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

यहां हर वर्ष होती हैं 2 लाख महिलाओं की मौत, प्रग्नेंट होने को मानते हैं अभिशाप

afrika pic

 

दुनिया का कोई भी स्थान हो हर जगह किसी भी महिला के गर्भवती होने को एक खुशी के अवसर के रुप में देखा जाता हैं मगर दुनिया का यह एक ऐसा हिस्सा हैं जहां महिलाओं का प्रग्नेंट होना एक अभिशाप हैं। मगर दुनिया का यह एक ऐसा हिस्सा हैं जहां महिलाओं का प्रग्नेंट होना अभिशाप हैं।

मां बनने का अहसास सबसे सुखद माना जाता हैं लेकिन अफ्रीका के कुछ ऐसे इलाके हैं जो प्रग्नेंट महिला को मौत की दावत दे देते हैं। ये हैं अफ्रीका के पिछड़े हिस्से। इन हिस्सों में ज्यादातर युगांडा, डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो तथा इथिओपिया जैसे हिस्से आते हैं। यहां पर प्रतिवर्ष 2 लाख से भी ज्यादा महिलाओं की मौत हो जाती हैं।

565e3de221000065005ac003 2ndimage source

फोटोग्राफर पोलो पैट्रनों ने मालवी गावों में 6 महीने से अधिक का समय बिताया हैं और वहां के हालातों को देखा हैं। इन्होंने इन इलाको के पब्लिक और प्राइवेट अस्पतालों में जाकर भी देखा और पाया की वहां सुविधाएं न होने के कारण महिलाएं मौत के मुंह में समा रही हैं।

इस फोटोग्राफर ने वहां के मैटरनिटी वार्ड्स में जाकर महिलाओं की तस्वीरें ली। पहले तो वहां के लोगों ने किसी मेल व्यक्ति के वहां आने पर मनाही कर दी, पर जब पोलो पैट्रनों ने अपने उद्देश्य को बताया तो उन लोगों ने पोलो को इसकी इजाजत दे दी। पोलो ने वहां पर उन मूमेंट्स की तस्वीरें ली जो अब दुनिया के सामने आई हैं।

maxresdefault 3rdimage source

पोलो ने अपने इस प्रोजेक्ट का नाम “बर्थ इज अ ड्रीम” रखा हैं। जब ये तस्वीरें सोशल मीडिया पर आई तो उन्होंने कई बड़ी इंटरनेशनल NGO का ध्यान अपनी और मोड़ा। पोलो बहुत सी महिलाओं की ऐसी अनसुनी कहानियां लेकर आए हैं जो अभी तक इन गावों से बाहर तक नहीं आ पाई हैं। अब वह दोबारा अफ्रीका जाकर उन सभी कहानियों को बाहर लाना चाहते हैं।

To Top