_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/12/","Post":"http://wahgazab.com/know-about-the-amazing-cow-which-requires-4-men-to-collect-milk/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/know-about-the-amazing-cow-which-requires-4-men-to-collect-milk/know-about-the-amazing-cow-which-requires-4-men-to-collect-milk-1/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

मार्तन्ड सूर्य मंदिर – 84 स्तम्भों पर निर्मित कश्मीर का प्राचीन और अनोखा मंदिर

कश्मीर अपने देश का एक पुरातन स्थान है और प्राचीन काल में किए गए ऐतिहासिक कार्यों के अवशेष आज भी यहां मिलते हैं, इसी क्रम में आज हम आपको बता रहें हैं कश्मीर के एक अनोखे सूर्य मंदिर के बारे में जो निर्मित हुआ था सिर्फ 84 खम्बों पर, जी हां, कश्मीर का यह विशाल मंदिर महज 84 स्तम्भों पर ही निर्मित किया गया था, इस अनोखे सूर्य मंदिर का नाम “मार्तन्ड सूर्य मंदिर” है। हालांकि अपने देश में इस मंदिर के अलावा “सूर्य कुंड” में एक सूर्य मंदिर तथा कोणार्क का सूर्य मंदिर भी बहुत विशाल और प्रसिद्ध मंदिर हैं, पर यह सूर्य मंदिर भी अपने आप में काफी खासियत रखता है।

?????????????

Image Source:

इस मंदिर का निर्माण प्रतापी राजा ललितादित्य ने कराया था, ललितादित्य सूर्यवंशी राजा थे। यह मंदिर अनंतनाग नामक स्थान पर कश्मीर में एक पहाड़ी पर स्थित है। इस मंदिर का निर्माण 7वीं सदी के उत्तरार्ध में हुआ था और उस समय ही इस मंदिर के 84 स्तम्भों की नींव रखी गई थी। इस मंदिर की वास्तुकला राजसी है जो की इसको अन्य मंदिरों से अलग बनाती है, इसके अलावा इस मंदिर में चकौर ईटों का उपयोग किया गया है जो की अपने आप में चकित करने वाली वास्तुकला का नमूना है। यह मंदिर बर्फ से ढके पहाड़ों के बीच में एक पहाड़ी के शिखर पर बना है, जिसके कारण यहां सारा दृश्य बहुत सुन्दर दिखाई पड़ता है। इस मंदिर से चारों ओर की घाटी का दृश्य देख सभी लोग मंत्रमुग्ध हो जाते हैं।

Most Popular

To Top