भूत-प्रेत को चुनौती देने वाले की रहस्यमयी मौत!

फेसबुक- आत्मा और भूत-प्रेत के अलावा रहस्यमयी बातों, घटनाओं और जगहों को खंगालने वाले की मौत कैसे बनी रहस्यमयी जानने के लिये करें क्लीक भूत प्रेतों एंव आत्माओं से रूबरू बात करने वाले इंडियन पैरानॉर्मल सोसाइटी के संस्थापक गौरव तिवारी की अचानक हुई मौत रहस्यमयी बनी हुई है। जिसका पता अभी तक नही चल पाया है कि इसके पीछे का कारण आखिर क्या है। बैसे शुरूआती जांच के अनुसार पुलिस इसे आत्महत्या का मामला बता रही है।

gaurav-tiwari1Image Source:

इंडियन पैरानॉर्मल सोसाइटी के संस्थापक गौरव द्वारका सेक्टर-19 में अपने पूरे परिवार के साथ रहा करते थे। उन्होने अपने इन कामों से भारत में ही नही देश विदेश में भी काफी प्रसिद्धि पाई थी। उन्होने कई टीवी सीरियल और कुछ फिल्मों भी काम किया हुआ था। गौरव ने इंडियन पैरानॉर्मल सोसाइटी नामक संस्था आत्मा और भूत-प्रेत की जानकारी पाने के लिए बनाई थी। जिसमें वो अपनी कई टीमों के साथ मिलकर काम करते थे।

gaurav-tiwari2Image Source:

पुलिस एंव परिवार वालो के अनुसार गौरव 6 जुलाई को जनकपुरी गया था, जहां से आधी रात को करीब डेढ़ बजे घर वापस पहुंचा था। रोज की तरह सुबह नौ बजे उठने के बाद वह फ्रेश होने के लिये बाथरूम गया जहां पर काफी समय तक बाथरूम में बंद रहा। बाथरूम में काफी समय तक बंद रहने के बाद सुबह करीब 11 बजे अचानक बाथरूम से चीखने की अवाज सुनाई थी जिसकी अवाज को सुनकर परिवार के लोग उस ओर भागें पर उस दौरान अंदर से कोई हलचल नहीं हो रही थी। जिससे घबराकर बाथरूम का दरवाजा तोड़ दिया गया। और गौरव को फासी के फंदे में लिपटा पाया गया। उनके गले में चुनरी बधीं हुई थी। जैसे ही जांच एंव इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया,उनकी मौत हो चुकी थी।

बताया जाता है। कि मरने के एक दिन पहलें ही पति पत्नि के बीच झगड़ा हुआ था। जिस दौरान गौरव ने अपना मोबाइल जमीन पर फेंक दिया था। लेकिन पुलिस इस मामले की जांच में इस बात को सामने नही ला रही है कि सिर्फ मोबाइल फेंकने के कारण उसने ऐसा कदम उठाया होगा। गौरव ने अभी हाल ही में अमेरिका में अदृश्य शक्ति के कोर्स को पूरा किया था। गौरव कमर्शियल पायलट भी रह चुका है। बताया जाता है कि गौरव की काफी समय से माली हालत ठीक नही थी। जिस कारण वो काफी परेशान रहते थे इस समय वो पूरी तरह से अपने परिवार के पैसों पर आश्रित हो चुके थे और इसी तनाव के चलते उन्होनें यह कदम उठाया।

To Top