_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/06/","Post":"http://wahgazab.com/check-out-the-first-tv-commercial-of-dabbu-uncle-and-the-dance-he-did/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/this-infant-started-to-walk-just-after-birth-doctors-are-surprised/video-8/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/ea6a6e77ca639bd8e8c69deaa8f1ad28/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

गिरधर-मीरा मंदिर में आपको भगवान कृष्ण के साथ राधा जी नहीं बल्कि मीरा के होते हैं दर्शन

भगवान कृष्ण

 

वैसे तो भगवान कृष्ण के साथ देवी राधा का नाम ही जुड़ता है, पर अपने देश में एक ऐसा भी मंदिर है जहां मीरा के साथ भगवान कृष्ण की प्रतिमा स्थित है। जी हां, यही इस मंदिर की खासियत है कि इस मंदिर में देवी राधा के स्थान पर भक्तों को श्री कृष्ण के साथ मीरा जी के दर्शन होते हैं। देखा जाएं तो पुरातन काल से ही देवी राधा का नाम ही भगवान कृष्ण के साथ जोड़ा जाता रहा है। कृष्ण भक्त “राधे-राधे” या “राधा-कृष्ण” का जप ही करते हैं। ऐसे में भगवान कृष्ण के साथ में उनकी भक्त मीरा जी का होना आश्चर्य से कम नहीं है। आइए आपको विस्तार से बताते हैं इस अनोखे मंदिर के बारे में।

भगवान कृष्णImage Source:

आपको सबसे पहले हम बता दें कि यह अद्भुत मंदिर राजस्थान की राजधानी जयपुर में स्थित है। असल में यह बात उस समय की है जब जयपुर में बेहद कम लोग थे। उस समय महंत मधुसुधन दास के पूर्वजों ने इस मंदिर की स्थापना गलता वन बीहड़ क्षेत्र में की थी। इस प्रकार से देखा जाएं तो यह मंदिर काफी प्राचीन है। इस मंदिर के संबंध में यह मान्यता है कि एक बार मीरा जी गलता में स्नान करने के लिए आई थी और रात्रि में इसी स्थान पर ही वह विश्राम करने के लिए रूकीं थी। कहा जाता है कि इस मंदिर की रक्षा 7 भौमिये करते हैं जो प्रतिदिन रात्रि को 12 बजे मंदिर में उपस्थित होते हैं। उस समय मंदिर एकाएक दिव्य सुगंध फैल जाती है। इस मंदिर में 3 दिव्य कड़े भी हैं जो बड़ी से बड़ी पेट की बिमारियों को नष्ट कर देते हैं। बहुत से भक्त इन कड़ों के द्वारा चमत्कार से ठीक हो चुके हैं। माना जाता है कि इस मंदिर में लोगों की मनोकामनाएं भी जल्दी ही पूरी हो जाती हैं। जन्माष्टमी, मीरा जयंती जैसे पर्वों पर इस मंदिर में उत्सव मनाया जाता है।

To Top