_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/02/","Post":"http://wahgazab.com/these-new-faces-in-ipl-auctioned-for-2-crores/","Page":"http://wahgazab.com/addd/","Attachment":"http://wahgazab.com/these-new-faces-in-ipl-auctioned-for-2-crores/nattu-3/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/28118/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=154","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

इस गुमनाम किले में भरा पड़ा है तोप के गोलों का जाखीरा, जानें इसके अन्य रहस्य को…

महाराष्ट्र के ओस्मानाबाद जिलें में स्थित एक ऐसा किला है, जो कई हजार सालों से गुमनामी के अंधेरों में डूबा हुआ है। इस किले में कोई परिदां भी पर नहीं मारता, पर हैरान करने वाली बात यह कि इस किले के अंदर दबी है कुछ रहस्यमयी चीजें, जिसे देख सब हो गए हैरान…
जानिए कौन सा है ये किला…

परंदा का किला जिसके बारे में कोई पुख्ता जानकारी नहीं है, पर कहां जाता है कि इसका मिर्माण 15वीं शताब्दी में बहमनी सल्तनत के महमूद गवन वजीर के द्वारा करवाया गया था। इसके अलावा इस किले बारे में किसी भी लड़ाई के समय इसका इस्तेमाल होने के कोई प्रमाण नहीं है, पर हैरान करने वाली बात ये है कि इतिहास के पन्नें में गुम पड़े इस किलें में युद्ध में लड़ने लायक प्राचीन हथियारों का जखीरा भरा पड़ा हुआ है। इसके अलावा भारी तोपे भी इस किले पर मौजूद है।

osmanabad1Image Source:

26 तोपों से होती थी किले की सुरक्षा
– 12 एकड़ के क्षेत्र में फैले इस किले की सुरक्षा कभी 26 तोपों के द्वारा हुआ करती थी। आप आज भी इस स्थान पर इन तोपों को देख सकते हैं। इसके अलावा इस किले में एक बड़ा हिस्सा तोप के गोलों से भी भरा पड़ा है। यहां कई तहखाने हैं, जो कई बड़ी-बड़ी सुरंगों को एक दूसरे से जुड़ते हैं। इस किले में कुछ कलाकृतियां भी मौजूद हैं जो हिन्दू धर्म से संबंध रखती हैं। किले में आपको हिन्दू देव-देवताओं की प्रतिमाएं भी देखने को मिलेंगी। साथ ही इसके अंदर एक नरसिम्हा मंदिर भी बना हुआ है। परंदा किले में एक प्राचीन मस्जिद भी है जो 24 पिलरों पर खड़ी है।

Most Popular

To Top